संजीवनी टुडे

कल हैं गुड फ्राइडे, जानें क्यों मनाया जाता है Good Friday, ईसाई समुदाय में क्यों है ये इन इतना खास?

संजीवनी टुडे 09-04-2020 08:39:01

ईसाइयों के बीच गुड फ्राइडे का बड़ा महत्व है। गुड फ्राइडे ईसाई समुदाय के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक है। अलग-अलग देशों में गुड फ्राइडे को अलग-अलग नामों से जाना जाता है। ईसाई समुदाय के लोग इस त्योहार को काले दिवस के रूप में मनाते हैं।


डेस्क। ईसाइयों के बीच गुड फ्राइडे का बड़ा महत्व है। गुड फ्राइडे ईसाई समुदाय के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक है। अलग-अलग देशों में गुड फ्राइडे को अलग-अलग नामों से जाना जाता है। ईसाई समुदाय के लोग इस त्योहार को काले दिवस के रूप में मनाते हैं। इस त्योहार को अन्य नामों जैसे ब्लैक फ्राइडे, होली फ्राइडे या ग्रेट फ्राइडे के नाम से भी जाना जाता है। इस बार गुड फ्राइडे 10 अप्रैल को मनाया जाएगा। 

Good friday

कब है गुड फ्राइडे: इस बार गुड फ्राइडे 10 अप्रैल को मनाया जाएगा। देश और दुनिया में यह धार्मिक पर्व बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है। ईसाई मान्यता के अनुसार गुड फ्राइडे ईस्टर को पड़ने वाला फ्राइडे होता है, जिसकी गणना पूर्वी और पश्चिमी ईसाईयत के आधार पर भिन्न-भिन्न तरह से होती है। जहां पश्चिमी ईसाईयत की गणना में जोर्जियन कैलेंडर का उपयोग होता है, तो वहीं पूर्वी ईसाईयत की गणना के लिए जूलियन कैलेंडर का प्रयोग किया जाता है।

क्यों मनाया जाता है गुड फ्राइडे 

बाइबल के अनुसार इस दिन ईसाई समुदाय के गुरु ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था। इसके तीन बाद ही वो ज़िंदा हो उठे थे, जिसके बाद ईस्टर संडे मनाया जाने लगा। हालांकि, 'गुड फ्राइडे' को ईसाई धर्म के लोग 'शोक दिवस' के रूप में मनाते हैं। लोगों के ज़हन में सबसे बड़ा सवाल इस बात को लेकर रहता है कि जिस दिन यीशू को सूली पर चढ़ाया गया था, उस दिन को 'गुड' कैसे कह सकते हैं।

Good friday

दरअसल, ईसाई धर्म में यह मान्‍यता है कि ईसा मसीह ने लोगों की भलाई के लिए अपनी जान दी थी, इसलिए इस दिन को 'गुड' कहकर संबोधित किया जाता है। चूंकि यह दिन शुक्रवार को आता है इसलिए इसे 'गुड फ्राइडे' कहा जाता है। इस दिन को उनकी कुर्बानी दिवस के रूप में मनाते हैं।

गुड फ्राइडे नाम कैसे जुड़ा

ईसाई धर्म के अनुसार ईसा मसीह परमेश्वर के बेटे हैं। उन्‍हें अज्ञानता के अंधकार को दूर करने के लिए मृत्‍यु दंड की सजा दी गई। कट्टरपंथियों को खुश करने के लिए पिलातुस ने यीशु को क्रॉस पर लटकाकर जान से मारने का आदेश दे दिया। उनपर कई तरह से यातनाएं की गईं। लेकिन यीशु उनके लिए प्रार्थना करते रहे कि 'हे ईश्‍वर! इन्‍हें क्षमा करना क्‍योंकि ये नहीं जानते कि ये क्‍या कर रहे हैं।' जिस दिन ईसा मसीह को क्रॉस पर लटकाया गया था उस दिन फ्राइडे यानी कि शुक्रवार था। तब से उस दिन को गुड फ्राइडे कहा जाने लगा। गुड फ्राइडे को होली फ्राइडे, ब्लैक फ्राइडे और ग्रेट फ्राइडे भी कहा जाता है।

Good friday

इस तरह मनाते हैं गुड फ्राइडे

गुड फ्राइडे को ईसाइ धर्म के लोग बड़ी धूमधाम से मनाते है। ईसाइयों के घरों में गुड फ्राइडे के 40 दिन पहले से ही प्रार्थना और व्रत रखने शुरू हो जाते हैं। इस व्रत में ये शाकाहारी खाना खाते हैं। 40 दिन बाद जब उपवास ख़त्म होता है तो लोग गुड फ्राइडे के दिन चर्च जाते हैं और अपने ईसा मसीह को याद कर शोक मनाते हैं। इसी के साथ गुड फ्राइडे के दिन ईसा के अंतिम सात वाक्यों की विशेष व्याख्या की जाती है जो क्षमा, मेल-मिलाप, सहायता और त्याग पर केंद्रित होती है।

ये खबर भी पढ़े:  गुड फ्राइडे 2020: ईसा मसीह को सूली पर क्यों चढ़ाया गया?जानें इसका के रहस्य

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From religion

Trending Now
Recommended