संजीवनी टुडे

शनि देव को प्रसन्न करने के लिए शनिवार को अंधेरा होने के बाद करें ये उपाय, साढ़ेसाती से मिलेगी मुक्ति

संजीवनी टुडे 14-12-2019 08:19:50

हिंदू धर्म में शनिदेव को न्याय का देवता कहा जाता है। वह मनुष्य के अच्छे-बुरे कर्मों के हिसाब से उन्हे फल देने का काम करते है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिस व्यक्ति पर शनि की कृपा हो जाती है तो उसके भाग्य बदल जाते हैं।


डेस्क। शनिवार भगवान शनिदेव का दिन माना जाता हैं। हिंदू धर्म में शनिदेव को न्याय का देवता कहा जाता है। वह मनुष्य के अच्छे-बुरे कर्मों के हिसाब से उन्हे फल देने का काम करते है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिस व्यक्ति पर शनि की कृपा हो जाती है तो उसके भाग्य बदल जाते हैं। शनि देव यदि प्रसन्न हो जायें तो जीवन में एक नयी तरङ्ग का आभास होता है। अधिकतर लोग शनि देव को बुरा मानते हैं क्योंकि शनि देव की कृदृष्टि से कार्य में बाधायें आती हैं। आओ जाने कैसे शनि देव को प्रसन्न किया जा सकता है।

ये खबर भी पढ़े: 14 दिसंबर 2019: जानिए आज का राशिफल

religion

शनि देव को प्रसन्न करने के उपाय 

- कहा जाता है कि सूर्योदय से पहले पीपल की पूजा करने पर शनिदेव अत्यधिक प्रसन्न होते है। अगर शनि की साढ़ेसाती से ग्रस्त हैं तो शनिवार को अंधेरा होने के बाद पीपल पर मीठा जल अर्पित कर सरसों के तेल का दीपक और अगरबत्ती लगाएं और वहीं बैठकर क्रमशः हनुमान, भैरव और शनि चालीसा का पाठ करें और पीपल की सात परिक्रमा करें।

-शनिवार के दिन घर के किसी अंधेरे भाग में किसी लोहे की कटोरी में सरसों का तेल भरकर उसमें तांबे का सिक्का डालकर रखें।

-शनिदेव की मूर्ति पर 43 दिन तक लगातार तेल चढांए लेकिन रविवार को छोड़कर।

-शनिवार के दिन बंदरों को भुने हुए चने खिलाएं और मीठी रोटी पर तेल लगाकर काले कुत्ते को खाने को दें।

religion

-प्रतिदिन पूजा करते समय महामृत्युंजय मंत्र ॐ नमः शिवाय का जाप करें शनि के दुष्प्रभावों से मुक्ति मिलती है।

-शनि ढैया के शमन के लिए शुक्रवार की रात्रि में 8 सौ ग्राम काले तिल पानी में भिगो दें और शनिवार को प्रातः उन्हें पीसकर एवं गुड़ में मिलाकर 8 लड्डू बनाएं और किसी काले घोड़े को खिला दें। आठ शनिवार तक यह प्रयोग करें।

-शनि के दुष्प्रभाव को दूर करने के लिए शनिवार के दिन काली गाय की सेवा करें। पहली रोटी उसे खिलाएं, सिंदूर का तिलक लगाएं, सींग में मौली (कलावा या रक्षासूत्र) बांधे और फिर मोतीचूर के लड्डू खिलाकर उसके चरण स्पर्श करें।

religion

- प्रत्येक शनिवार को वट और पीपल वृक्ष के नीचे सूर्योदय से पूर्व कड़वे तेल का दीपक जलाकर शुद्ध कच्चा दूध एवं धूप अर्पित करें।

-शनिवार को ही अपने हाथ के नाप का 29 हाथ लंबा काला धागा लेकर उसको मांझकर(मसलकर) माला की तरह गले में पहनें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From religion

Trending Now
Recommended