संजीवनी टुडे

सावन के गुरुवार को करें ये उपाय, विवाह में आ रही बाधाओं से मिलेगी मुक्ति

संजीवनी टुडे 25-07-2019 09:05:22

व्यक्ति के जीवन में आने वाली बाधाओं और समस्याओं का कारण उनकी कुंडली में उपस्थित ग्रहों की स्थिति पर भी निर्भर करता हैं। इनेमं से गुरु ग्रह का भी बड़ा महत्व माना जाता हैं। लेकिन सावन का महिना इतना पवित्र होता हैं कि कुछ उपायों की मदद से परेशानियों से निजात पाया जा सकता हैं।


डेस्क। सावन का महीना चल रहा हैं। सावन महीने में शिव पूजा करने का विशेष विधान माना गया है सावन के इस महीने में भगवान भोले को प्रसन्न करने के लिए हम कई चीजों का अर्पण भोले के समक्ष किया करते है। इस महीने में भोले का पूजन बहुत धूम धाम के साथ करते हैं। व्यक्ति के जीवन में आने वाली बाधाओं और समस्याओं का कारण उनकी कुंडली में उपस्थित ग्रहों की स्थिति पर भी निर्भर करता हैं। इनेमं से गुरु ग्रह का भी बड़ा महत्व माना जाता हैं। लेकिन सावन का महिना इतना पवित्र होता हैं कि कुछ उपायों की मदद से परेशानियों से निजात पाया जा सकता हैं। इसलिए आज हम आपके लिए सावन के गुरुवार को किये जाने वाले उपायों की जानकारी लेकर आए हैं जिनकी मदद से विवाह में आ रही सभी बाधाओं से मुक्ति मिलेगी। तो आइये जानते हैं इन उपायों के बारे में।

- बिना बृहस्पति के महिलाओं का न तो विवाह होगा और न ही चलेगा

- बृहस्पति कमजोर हो तो विवाह में बहुत देरी होती है

ss

- गुरुवार को सूर्योदय से पहले उठें। स्नान के बाद भगवान विष्णु के सामने घी का दीपक जलाएं। इसके बाद विष्णु सहस्रनाम का पाठ करें।

- गुरु बृहस्पति की प्रतिमा या फोटो को पीले कपड़े पर विराजित करें और पूजा करें। पूजा में केसरिया चंदन, पीले चावल, पीले फूल और प्रसाद के लिए पीले पकवान या फल चढ़ाएं।

- पीली वस्तु जैसे सोना, हल्दी, चने की दाल, आम (फल) आदि का दान करें।

ss
- शिवजी को बेसन के लड्डू का भोग लगाएं। इस उपाय से गुरु ग्रह के दोष दूर होते हैं।


- गुरुवार की शाम को केले के वृक्ष के नीचे दीपक जलाएं। केले की पूजा करें और लड्डू या बेसन की मिठाई चढ़ाएं।

- गुरुवार को गुरु ग्रह के लिए व्रत रखें। इस दिन पीले कपड़े पहनें। बिना नमक का खाना खाएं। भोजन में पीले रंग का पकवान जैसे बेसन के लड्डू, आम, केले आदि भी शामिल करें।

- गुरुवार की विशेष पूजा के बाद स्वयं के माथे पर केसर का तिलक लगाएं। यदि केसर नहीं हो तो हल्दी का तिलक भी लगा सकते हैं।

s

- गुरु मंत्र का जप करें-मंत्र-ॐ बृं बृहस्पते नम:। मंत्र जप की संख्या कम से कम 108 होनी चाहिए।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166  

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From religion

Trending Now
Recommended