संजीवनी टुडे

संतों का जीवन समाज को समर्पित रहता हैः रघुमुनि

संजीवनी टुडे 09-11-2018 00:01:00


हरिद्वार। संतो के सानिध्य में व्यक्ति के उत्तम चरित्र का निर्माण होता है। जिससे वह संस्कारवान स्वयं को सबल बनाता है और समाज एवं राष्ट्र के उत्थान में अपना सहयोग प्रदान करता है। 

उक्त उद्गार श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन के श्रीमहंत रघुमुनि महाराज ने संत समागम एवं शान्तरशाह गद्दी के महंत रविन्द्रादास महाराज के सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि संतों का जीवन समाज के मार्गदर्शन को समर्पित रहता है। जिससे प्रेरणा लेकर व्यक्ति सत्कर्मो की ओर अग्रसर होता है। क्योंकि महापुरूषों ने समाज को सदा नई दिशा प्रदान की है। महंत रविन्द्रदास महाराज ने कहा कि संतों का जीवन सदैव प्रेरणादायी एवं निर्मल जल के समान होता है।

 जिन्होंने भारतीय संस्कृति और सनातन धर्म को विश्व पटल पर एक नया स्वरूप प्रदान किया है। और अपनी तप व साधना के द्वारा भारत को नई पहचान दी है। राष्ट्र निर्माण में संतांे के अतुलनीय योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है। श्री पंचायती अखाड़ा बड़ा उदासीन के कोठारी महंत प्रेमदास महाराज ने कहा कि महंत रविन्द्रदास महाराज बहुत ही सरल एवं तपस्वी संत हैं। जो अनेक प्रकार के सेवा प्रकल्पों के माध्यम से लोक कल्याण के कार्यो में अपना योगदान प्रदान कर रहे हैं। 

महंत जयेंद्र मुनि महाराज ने कहा कि संतों का कार्य समाज में सद्भाव का वातावरण बनाकर सन्मार्ग की प्रेरणा देना होता है। इस अवसर पर महंत दामोदार दास, महंत दर्शनदास, महंत दुर्गादास, म.म.स्वामी कपिल मुनि, बाबा हठयोगी, महंत दामोदर शरण दास, महंत राघवेंद्र दास, म.म.स्वामी संतोषानंद देव, महंत चंद्रमा दास, महंत निरंजनदास, महंत गंगादास, महंत निर्मलदास, महंत कमलादास, स्वामी पवन गिरी, इंद्रमोहन मिश्रा, अमन प्रताप आदि उपस्थित रहे। 

More From religion

Loading...
Trending Now
Recommended