संजीवनी टुडे

सूर्यदेव को रविवार के दिन ऐसे अर्पित करें जल, मिलेगी हर काम में मिलेगी सफलता

संजीवनी टुडे 21-07-2019 07:31:46

जीवन में सुख-समृद्धि धन-संपत्ति और शत्रुओं से सुरक्षा के लिए रविवार का व्रत सर्वश्रेष्ठ है। जिस पर सूर्य देव की कृपा बरसती है उसके सभी संकट दूर हो जाते हैं। इसके साथ ही जल चढ़ाने का भी खास महत्व बताया गया है।


डेस्क। रविवार सूर्य देवता की पूजा का वार है। मान्यता है कि रविवार को सू्र्यदेव की पूजा से व्यक्ति यश और वैभव प्राप्त होता है।  इसके साथ ही घर की दरिद्रता दूर होती है। वहीं रविवार के पूजन से व्यक्ति को धन भी प्राप्त होता है। जीवन में सुख-समृद्धि, धन-संपत्ति और शत्रुओं से सुरक्षा के लिए रविवार का व्रत सर्वश्रेष्ठ है। जिस पर सूर्य देव की कृपा बरसती है उसके सभी संकट दूर हो जाते हैं। इसके साथ ही जल चढ़ाने का भी खास महत्व बताया गया है। लेकिन सूर्यदेव की पूजा और अर्घ्य देने से पहले कई बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है।

सूर्य की उपासना रविवार को सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त करने की मान्यता है। सबसे पहले रविवार के दिन उठकर स्नान कर लें, जिसके बाद सूर्यदेव को जल अर्पित करें। जल अर्पित करते समय खास ध्यान रखें कि जिस लौटे से आप अर्घ्य देने जा रहे हैं वह ताबें का है या नहीं। सिर्फ तांबे के लौटे से सूर्य देव को जल अर्पित करें। जल अर्पित हो जाने पर धूप जलाकर पूजन करें. उस लौटे में फूल-चावल भरना ना भूलें। वहीं रविवार के दिन लाल वस्त्, गुड़, तांबे के बर्तन, लाल चंदन आदि सामानों का दान करें। दिन में एक बार फलहार जरूर करें। इसके साथ ही रविवार के सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए व्रत भी किया जाता है।

s

जल चढ़ाने का महत्व

पौराणिक धार्मिक ग्रंथों में भगवान सूर्य के अर्घ्यदान का विशेष महत्व बताया गया है। रविवार के दिन सूर्यदेव की पूजा के साथ जल चढ़ाने को काफी शुभ माना गया है। अगर आप ऐसा प्रतिदिन ऐसा करते हैं तो भगवान की कृपा आपके ऊपर बरसती है। इसके साथ ही माना जाता है कि जल अर्पित करने से सभी परेशानियां तो दूर होती ही हैं साथ-साथ आर्थिक वृद्धि होनी शुरू हो जाती है। अगर किसी भक्त से सूर्यदेव प्रसन्न हो जाते हैं तो उसके घर की तिजौरी कभी खाली नहीं रहती। 

s

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166 

 

More From religion

Trending Now
Recommended