संजीवनी टुडे

...तो इसलिए भगवान श्रीकृष्ण को प्रिय थी बांसुरी, बजाने से होते है ये फायदे

संजीवनी टुडे 23-08-2019 10:59:01

भगवान श्रीकृष्ण का स्वरुप काफी अदभुत है जहां उनके सिर पर मोर पंख रहता है तो उनके हाथों में बांसुरी मन को मोह लेती है आइए जाने श्रीकृष्ण की बांसुरी से जुड़ी ये खास बाते जिसके बारे में शायद आपको पता ना हो ।


डेस्क। भगवान श्रीकृष्ण की मुरली शब्द ब्रम्हा का प्रतीक थी मुरली वास्तव में पूर्वकाल में ब्रम्हा की पुत्री थी। विष्णु के दस अवतारों की परंपरा में श्रीकृष्ण 16 कलाओं से पूर्ण अवतार माने गए हैं। उनका व्यक्तित्व जीवन के अलग-अलग आयामों को स्पर्श करता है। जिनमें नृत्य रूप में रास और कला के रूप में बांसुरी भी शामिल हैं। भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव पूरें जन्माष्टमी पूरें  धूमधाम से 24 अगस्त को मनाया जाना है जिसको लेकर श्रीकृष्ण जन्मोत्सव की तैयारियां जोरो शोरो से पूरो हो चुकी है नंदलाल के जन्म उत्सव को लेकर श्रीकृष्ण मंदिरों में कई तरह की विशेष झाकियां बाल गोपाल की तैयार की गई  है भगवान श्रीकृष्ण का स्वरुप काफी अदभुत है जहां उनके सिर पर मोर पंख रहता है तो उनके हाथों में बांसुरी मन को मोह लेती है आइए जाने श्रीकृष्ण की बांसुरी से जुड़ी ये खास बाते जिसके बारे में शायद आपको पता ना हो ।

यह खबर भी पढ़े: अगर शुक्रवार को करेंगे ये काम तो हो जायँगे कंगाल

बांसुरी श्री कृष्ण के अंतरंग थी और वो उसे कभी अपने से अलग नहीं करते थे।श्री कृष्ण को उनकी प्यारी बांसुरी किसने दी इसके पीछे भी पुराणिक कथा है। धार्मिक मान्यातओ अनुसार कहा जाता है की  भगवान श्रीकृष्ण की बांसुरी की धुन मन को मोह लेती थी जब भी वह बांसुरी बजाते तो गोपियां उनकी बांसुरी की आवाज सुन उनकी और खीची चली आती थी । बांसुरी श्री कृष्ण को अति प्रिय रही है बांसुरी में तीन गुण होने से वही उनकी हमेशा से ही प्रिय रही है । एक बांसुरी में कुल आठ छिद्र होते है  जिसमें पहला छिद्र मुंह के पास होता है, जिससे हवा फूंकी जाती है और छह छिद्र सरगम के होते हैं। जिन पर उंगलियां रखी होती है वहीं सबसे नीचे एक और छिद्र होता है, जो आठवां छिद्र है वो ट्र्यूंनग के लिए होता है।

sg
 बांसुरी बनाना केवल बांस में होल कर देना भर से ही नही होता है  इसमें मेजरमेंट का फंडा होता है। अगर एक भी होल गलत हो गया तो फिर वह बांसुरी बेसुरी हो आवाज देती है हालाकि बांसुरी बनाने में ज्याद वक्त नहीं लगता है, लेकिन ट्र्यूंनग में बहुत समय लगता है।  साथ ही एक भी गलत जगह होल हो जाता है तो पूरी मेहनत बर्बाद हो जाती है।


मानसिक तनाव और पति-पत्नी के बीच अनबन को चल रही है तो रात को सोते समय बांसुरी सिरहाने रखें ऐसा करना काफी फायदेमंद होगा।

जो लोग संतान सुख से अभागे है ऐसे वैवाहिक दंपती को अपने कमरे में भगवान श्रीकृष्ण के बाल स्वरुप की तस्वीर रखने से संतान सुख की प्राप्ति होगी।

sg

अगर आप घर के मुख्य द्वार पर बांस की बांसुरी लटकाते है तो घर में हमेशा समृद्धि बनी रहती है। ये खास फायदें भगवान श्रीकृष्ण की बांसुरी आपके जीवन मे लाती है।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From religion

Trending Now
Recommended