संजीवनी टुडे

आज से एक माह के लिए नहीं बजेगी शहनाई, जानिए क्यों ?

संजीवनी टुडे 16-12-2019 08:25:43

इस वर्ष खरमास 16 दिसंबर रात्रि 6 : 30 बजे से प्रारंभ हो रहा है। इसके बाद पूरे एक महीने तक शादी-विवाह और अन्य शुभ कार्य बंदे रहेंगे। हरि प्रबोधिनी एकादशी और मकर संक्रांति से पहले विवाह के मात्र दो मुहूर्त हैं।


डेस्क। आज से मलमास/खरमास शुरू हो रहे हैं। हिन्दू धर्म और ज्योतिष की दृष्टि से इस माह में शुभ कार्य वर्जित माने जाते हैं। इस वर्ष खरमास 16 दिसंबर रात्रि 6 : 30 बजे से प्रारंभ हो रहा है। इसके बाद पूरे एक महीने तक शादी-विवाह और अन्य शुभ कार्य बंदे रहेंगे। हरि प्रबोधिनी एकादशी और मकर संक्रांति से पहले विवाह के मात्र दो मुहूर्त हैं। एक 10 को, जबकि दूसरा 15 दिसंबर को है। इसके बाद 16 से खरमास लगेगा जो 14 जनवरी तक रहेगा। इसलिए 14 के बाद ही शहनाई बजेंगी।  जनवरी 2020 में 15 तारीख को सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने के बाद मकर संक्रांति के ही दिन खरमास का माह समाप्त होगा। 

ये खबर भी पढ़े: 16 दिसंबर 2019: जानिए आज का राशिफल

KhaKharmas

खरमास की पौराणिक मान्यता-

लोक कथाओं के अनुसार खरमास को अशुभ माह मानने के पीछे एक पौराणिक कथा बताई जाती है। खर गधे को कहा जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मार्कण्डेय पुराण के अनुसार एक बार सूर्य अपने सात घोड़ों के राथ को लेकर ब्राह्मांड की परिक्रमा करने के लिए निकल पड़ते हैं। इस परिक्रमा के दौरान सूर्य देव को रास्ते में कहीं भी रूकने की मनाही होती है।

KhaKharmas

लेकिन सूर्य देव के सातों घोड़े कई साल निरंतर दौड़ने की वजह से जब प्यास से व्याकुल हो जाते हैं तो सूर्य देव उन्हें पानी पिलाने के लिए निकट बने एक तलाब के पास रूक जाते हैं। तभी उन्हें स्मरण होता है कि उन्हें तो रास्ते में कहीं रूकना ही नहीं है तो वो कुंड के पास कुछ गधों को अपने रथ से जोड़कर आगे बढ़ जाते हैं। जिससे उनकी गति धीमी हो जाती है। यही वजह है कि खरमास को अशुभ माह के रूप में देखा जाता है। 

KhaKharmas

खरमास में शुभ कार्य वर्जित: 

- खरमास के इस पूरे मास तक विवाह, सगाई, ग्रह-प्रवेश आदि धार्मिक शुभकार्य या मांगलिक कार्य नहीं करना चाहिए। इस समय विवाह इत्यादि होने पर संबंधों में मधुरता की कमी आ सकती है और किसी न किसी कारण सुख का अभाव बना रहता है।

-नई वस्तुओं, घर, कार आदि की खरीददारी भी नहीं करनी चाहिए।

-घर का निर्माण कार्य या फिर निर्माण संबंधी सामग्री भी इस समय नहीं खरीदनी चाहिए।

KhaKharmas

-खरमास में शादी-विवाह के कार्य नहीं करने की सलाह दी जाती है। 

-धार्मिक मान्यताओं के अनुसार खरमास माह में व्यक्ति में क्रोध और उग्रता की अधिकता रहती है। इस खास समय वैचारिक मतभेद के साथ मानसिक बेचैनी भी कई लोगों में देखने को मिल सकती है। यही वजह है कि इस खास समय में सभी शुभ कार्यों को करने की मनाही बताई गई है।

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From religion

Trending Now
Recommended