संजीवनी टुडे

दूल्हा बनकर निकले भगवान शिव, संकट मोचन मंदिर में निभाई गईं विवाह की रस्में

संजीवनी टुडे 21-02-2020 18:39:43

शिवरात्रि के महापर्व पर जिले के दो बड़े शिवधामों पर हजारों की तादाद में पहुंचे श्रद्धालुओं ने भगवान शिव का अभिषेक किया।


छतरपुर। विगत वर्षों की भांति इस वर्ष भी महाशिवरात्रि का पर्व जिले भर में धूम-धाम से मनाया गया। लगभग 50 वर्षों से छतरपुर शहर में निकाली जा रही भगवान शिव की भव्य बारात इस बार भी आकर्षण का केन्द्र रही। शुक्रवार को गांव की देवी मंदिर हटवारा से निकाली गई इस बारात में भगवान शिव सहित बारह देवताओं के सजीव स्वरूप निकाले गए। बारात के आगे भगवान शिव की विशालकाय चिलम और 100 से अधिक घोड़ों का नृत्य आकर्षण का केन्द्र रहा। 

शिव बारात निकालने वाली समिति की ओर से नीरज भार्गव ने बताया कि यह बारात 1972 से निकाली जा रही है। गांव की देवी मंदिर वर पक्ष बनकर भगवान शिव को दूल्हा बनाकर इस बारात में लेकर जाता है और संकट मोचन मंदिर समिति वधु पक्ष के रूप में इस बारात का स्वागत करती है। संकट मोचन मंदिर में भगवान शिव और पार्वती के विवाह की सभी रस्में निभाई गईं। बारात ने बस स्टैंड, छत्रसाल चौक, महल दरवाजा, चौक बाजार, गल्ला मंडी होते हुए संकट मोचन मंदिर तक का सफर तय किया। जहां विवाह की रस्मों के बाद सभी को भोजन उपरांत विदाई दी गई।

भगवान शिव का हुआ अनूठा श्रृंगार
शहर के संकट मोचन मंदिर में प्रतिवर्ष शिवरात्रि के मौके पर एक भव्य मेले का आयोजन किया जाता है तो वहीं भगवान शिव का अनूठा श्रृंगार भी होता है। इस वर्ष भगवान शिव को तीन अलग-अलग रूपों में सजाया गया। नगर के जाने-माने कलाकार दिनेश शर्मा ने अर्धनारीश्वर, महाकाल एवं दूल्हा स्वरूप में भगवान शिव को सजाया। उनके दर्शन करने के लिए सैकडा़ें श्रद्धालु मंदिर पहुंचे।

लवकुशनगर से निकली पदयात्रा ने मतंगेश्वर में किया जलाभिषेक
लवकुशनगर। हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी महाशिवरात्रि के अवसर पर लवकुशनगर से करीब दो सैकड़ा लोग पदयात्रा करते हुए खजुराहो पहुंचे जहां उन्होंने भगवान मतंगेश्वर का जलाभिषेक किया। इस पदयात्रा की खास बात यह रही कि पूरे रास्ते में पद यात्रियों ने भू-जल संरक्षण, स्वच्छता, पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरुक किया। इसके अलावा रास्ते में कई स्थानों पर पौधरोपण भी किया गया।

जटाशंकर एवं मतंगेश्वर के दर्शन करने उमड़ा जनसैलाब
शिवरात्रि के महापर्व पर जिले के दो बड़े शिवधामों पर हजारों की तादाद में पहुंचे श्रद्धालुओं ने भगवान शिव का अभिषेक किया। बुंदेलखंड के केदारधाम कहे जाने वाले जटाशंकर धाम में सुबह 4 बजे से ही श्रद्धालुओं का तांता लग गया। एक अनुमान के मुताबिक यहां 50 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने भगवान शिव के दर्शन किए। इसी तरह पर्यटन नगरी खजुराहो में भगवान मतंगेश्वर के दर्शन करने के लिए भी हजारों श्रद्धालु यहां पहुंचे।

यह खबर भी पढ़ें: देश और दलित समाज के लिए खतरनाक हैं भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखरः विजय सोनकर

जयपुर में प्लॉट मात्र 289/- प्रति sq. Feet में  बुक करें 9314166166

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From religion

Trending Now
Recommended