संजीवनी टुडे

जानिए क्यों खास हैं 5 जून को लगने वाला चंद्रग्रहण, ग्रहण काल में कर सकते हैं ये काम

संजीवनी टुडे 03-06-2020 08:12:38

साल का दूसरा चंद्र ग्रहण 5 जून 2020 को लगने वाला है। शुक्रवार को लगने वाले ग्रहण सामान्य रूप से लगने वाले चंद्रगहण से बिल्कुल अलग है।


डेस्क। साल का दूसरा चंद्र ग्रहण 5 जून 2020 को लगने वाला है। शुक्रवार को लगने वाले ग्रहण सामान्य रूप से लगने वाले चंद्रगहण से बिल्कुल अलग है। चंद्र ग्रहण की अवधि में सामान्य क्रियाकलापों या धार्मिक पांबदियां नहीं होंगी। यानी आप चांदनी रात का नजारा देखते हुए तमाम चीजें बिना रोक-टोक कर सकते हैं। 

Lunar eclipse

5 जून को ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा पर उपछाया चंद्र ग्रहण होगा। 5 जून को लगने वाला यह ग्रहण कुल 3 घंटे और 18 मिनट का होगा। यह चंद्र ग्रहण रात तकरीबन सवा 11 बजे से ढाई बजे तक रहेगा। खास बात ये है कि इस ग्रहण को भारत में भी देखा जा सकेगा। ग्रहण काल में चंद्रमा कहीं से कटा हुआ होने की बजाय अपने पूरे आकार में नजर आएगा। ग्रहण काल के दौरान चंद्रमा वृश्चिक राशि में होंगे। 

Lunar eclipse

जून महीने में दो ग्रहण लगने जा रहे हैं। इसमें पहला ग्रहण 5 जून को लगेगा और दूसरा 21 जून को, 5 जून को चंद्र ग्रहण है वहीं 21 जून को सूर्य ग्रहण लगेगा। जून में लगने वाले ये दोनों ही ग्रहण भारत में दिखाई देंगे। 5 जून  की रात को लगने वाला ग्रहण उपछाया चंद्र ग्रहण है। उपछाया ग्रहण को वास्तविक चंद्र ग्रहण नहीं माना जाता है। हर चंद्र ग्रहण के शुरू होने से पहले चंद्रमा धरती की उपछाया में अवश्य प्रवेश करता है, जिसे चंद्र मालिन्य या अंग्रेजी में पेनुम्ब्रा कहा जाता है। उसके बाद ही चंद्रमा धरती की वास्तविक छाया में प्रवेश करता है, तभी उसे चंद्रग्रहण कहते हैं।

जब चंद्रमा उपछाया में प्रवेश करके ही बाहर निकलकर आता है और पृथ्वी की वास्तविक छाया में प्रवेश नहीं करता है तो इस अवस्था को उपछाया चंद्र ग्रहण कहा जाता है। इस अवस्था में चंद्रमा का बिंब काला होने की बजाए धुंधला नजर आता है। 

Lunar eclipse

उपछाया चंद्र ग्रहण की खास बातें: 

जानकारों का कहना की इस घटना को नग्न आंखों के द्वारा देखा जा सकता है। उपछाया चंद्र ग्रहण बहुत अधिक प्रभावशाली नहीं होता है। इस दौरान सूतक काल भी मान्य नहीं होता है।

-चंद्र ग्रहण के दौरान आप कुछ भी खा-पी सकते हैं। इसमें किसी तरह की रोक-टोक नहीं होती है।

-धर्म से जुड़े जानकारों का कहना है कि इस दौरान सिर्फ बच्चों, बुजुर्गों और पीड़ित व्यक्तियों को ही घर से बाहर निकलने की मनाही होती है।

Lunar eclipse

-ग्रहण से जुड़ी मान्यताएं कहती हैं कि ग्रहण लगना अशुभ होता है। इस दौरान कई तरह के शुभ कार्यों को करना वर्जित माना गया है।

यह खबर भी पढ़े: पुराने जमाने में महिलाएं इस काम के लिए करती थी प्याज का इस्तेमाल, जानकर आप भी रह जायेंगे दंग!

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From religion

Trending Now
Recommended