संजीवनी टुडे

2 दिन बाद मनाया जाएगा जन्माष्टमी का पर्व, इस दिन अवश्य करें कुंजबिहारी की आरती

संजीवनी टुडे 10-08-2020 10:05:49

श्रीकृष्ण की आराधना करने वालों के सब क्लेश दूर हो जाते हैं।


डेस्क। जन्माष्टमी का त्यौहार श्री कृष्ण के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। जन्माष्टमी का पर्व 12 अगस्त को मनाया जाएगा। कुछ स्थानों पर कान्हा के जन्मदिन को 11 अगस्त को मनाया जा रहा है, लेकिन अधिकतर स्थानों पर इस पर्व को 12 अगस्त के दिन ही मनाया जा रहा है। मथुरा नगरी में असुरराज कंस के कारागृह में देवकी की आठवीं संतान के रूप में भगवान श्रीकृष्ण भाद्रपद कृष्णपक्ष की अष्टमी को पैदा हुए। उनके जन्म के समय अर्धरात्रि  थी, चन्द्रमा उदय हो रहा था और उस समय रोहिणी नक्षत्र भी था। इसलिए इस दिन को प्रतिवर्ष कृष्ण जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। इस दिन भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था, इसलिए इसे कृष्ण जन्माष्टमी के नाम से जाना जाता है इस दिन श्री कृष्ण को प्रिय सामग्री समर्पित करने से श्री कृष्ण का विशेष आशीर्वाद मिलता है। श्रीकृष्ण की आराधना करने वालों के सब क्लेश दूर हो जाते हैं। दुख-दरिद्रता से उद्धार होता है। जिन परिवारों में कलह-क्लेश के कारण अशांति का वातावरण हो, उस घर के लोगो को रोजाना  श्रीकृष्ण की आरती करनी चाहिए।   

This mantra of Shri Krishna is very miraculous all troubles will be removed

भगवान श्रीकृष्णजी की आरती
आरती कुंजबिहारी की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की।
गले में बैजन्तीमाला बजावैं मुरलि मधुर बाला॥
श्रवण में कुंडल झलकाता नंद के आनंद नन्दलाला की। आरती...।
गगन सम अंगकान्ति काली राधिका चमक रही आली।
लतन में ठाढ़े बनमाली भ्रमर-सी अलक कस्तूरी तिलक।
चंद्र-सी झलक ललित छबि श्यामा प्यारी की। आरती...।
कनकमय मोर मुकुट बिलसैं देवता दरसन को तरसैं।
गगन से सुमन राशि बरसैं बजै मुरचंग मधुर मृदंग।
ग्वालिनी संग-अतुल रति गोपकुमारी की। आरती...।
जहां से प्रगट भई गंगा कलुष कलिहारिणी गंगा।
स्मरण से होत मोहभंगा बसी शिव शीश जटा के बीच।
हरै अघ-कीच चरण छवि श्री बनवारी की। आरती...।
चमकती उज्ज्वल तट रेनू बज रही बृंदावन बेनू।
चहुं दिशि गोपी ग्वालधेनु हंसत मृदुमन्द चांदनी चंद।
कटत भवफन्द टेर सुनु दीन भिखारी की। आरती...।

This time Janmashtami will be celebrated on August 12 temples are being decorated

यह खबर भी पढ़े: बहुत चमत्कारी है श्रीकृष्ण का यह एक मंत्र, दूर होंगे सारे कष्ट 

यह खबर भी पढ़े: 2 दिन बाद मनाया जाएगा जन्माष्टमी का पर्व, मंदिरों में नहीं दिखेगी रौनक

 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From religion

Trending Now
Recommended