संजीवनी टुडे

मनुष्य को अभिमान त्याग कर सदगुरु की शरण लेनी चाहिएः कथावाचक

संजीवनी टुडे 15-03-2019 02:30:00


गोपेश्वर। चमोली जिले के नारायणबगड़ ब्लाॅक के मानूर गांव में चल रही श्री राम कथा के पांचवें दिन गुरूवार को कथावाचक श्री कृष्ण चमोला ने कहा कि भगवान को यदि देखता है तो सदगुरु की दृष्टि से देखना चाहिए। 

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

मनुष्य को अभिमान का त्याग कर सदगुरु की शरण में आना चाहिए। जिससे जीवन में सदमार्ग की प्राप्ति हो सके। संत हनुमान जब पहली बार जंगल में भगवान श्रीराम से मिले तो भगवान ने अपनी माया को छिपा दिया, लेकिन हनुमान ने अंतरआत्मा से भगवान को पहचान दिया और उनके चरण पकड़ लिए। 

gfgg

MUST WATCH & SUBSCRIBE

सार यह है कि भगवान को पहचानने के लिए अंतरात्मा की आंखों में तेज और मधुर भाव होना चाहिए। नारायणबगड के मानूर गांव में कथा का आयोजन श्री श्री 108 आनंद गिरी जी महाराज की ओर से किया जा रहा है।

More From religion

Loading...
Trending Now
Recommended