संजीवनी टुडे

हनुमान जयंती 2019: बजरंगबली के मंदिरों में भक्तों का तांता, ध्वजा यात्राएं रहीं आकर्षण का केंद्र

संजीवनी टुडे 19-04-2019 17:59:41


वाराणसी। चैत्र शुक्ल पूर्णिमा हनुमत जयंती पर शुक्रवार को बाबा की नगरी संकटमोचन महाबीर की आराधना में लीन रही। नगर के सभी छोटे-बड़े हनुमान मंदिरों में आस्था का सैलाब उमड़ता रहा। नगर और ग्रामीण अंचल से निकलने वाले हनुमत ध्वजा यात्रा में शामिल युवाओं के नारे लाल लंगोटी लाल निशान, जय हनुमान जय हनुमान से फिजाएं गुंजायमान रही।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

सुबह नौ बजे दुर्गाकुंड स्थित धर्म संघ शिक्षा मंडल से निकली हनुमान ध्वजा यात्रा में आस्‍था का सैलाब सड़क पर उमड़ पड़ा। यात्रा में परंपरागत परिधानों में शामिल पुरूष महिलाएं भजन-कीर्तन करते हुए शामिल हुए। यात्रा में शामिल होने के लिए महिलाओं ने केसरिया रंग की साड़ी पहन रखी थी। शोभायात्रा में शामिल महिलाएं संकटमोचन मंदिर भी गई। यात्रा में कांग्रेस के नेता पूर्व विधायक अजय राय सहित नगर के गणमान्य लोग शमिल रहे। 

इसी क्रम में भिखारीपुर तिराहे से भी हनुमत् सेवा समिति परिवार की ओर से परम्परानुसार विशाल ध्वजा यात्रा निकाली गई। इस यात्रा में पूर्वांचल के कई जनपदों से भी ध्वज यात्राएं सम्मिलित हुई। इसमें अदलपुरा, कनकसराय, मिर्जापुर, रामसिंहपुर, कोनियां, डाफी, सुन्दरपुर, खोजवां जानकी नगर, शिवरतनपुर, जलाली पट्टी, अहमदाबाद, गुजरात, इत्यादि क्षेत्रों से ध्वजा लेकर भक्त दर्जनों झांकियों के साथ हजारों की संख्या में भिखारीपुर पहुंचकर मुख्य शोभा यात्रा में शामिल हुए। 

यात्रा में 60 फीट लंबे मुख्य रथ पर रामदरबार की झांकी और कीर्तन मंडली की भजनों की प्रस्तुति आकर्षण का केन्द्र बनी रही। यात्रा में शामिल देवगण् स्वरूपों पर राहगीर और क्षेत्रीय महिलाएं फूलों की वर्षा कर आरतियांं उतारती रही। शोभायात्रा में 201 आरती की थालियों संग हजारों महिलाओं का हुजूम राम नाम व महाबली के भजनों पर थिरकते हुए संकटमोचन दरबार तक पहुंचा। यात्रा में छोटे बड़े ध्वजा कुल मिलाकर 11 हजार ध्वजाओं पताकाओं को लहराते हुए भक्तों ने इसे संकट मोचन दरबार में अर्पित किया। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

दो किमी से अधिक लम्बे शोभायात्रा के संकटमोचन पहुंचने पर समिति परिवार की तरफ से दरबार में सवा 11 मनी प्रसाद चढ़ाया गया। यात्रा का समापन मन्दिर के महन्त प्रोफेसर विशम्भरनाथ मिश्र के हाथों से भक्तों में प्रसाद वितरण के पश्चात हुआ।

More From religion

Trending Now
Recommended