संजीवनी टुडे

महा अष्टमी पर कन्या पूजन कर श्रद्धालुओं ने मांगा सुख-सौभाग्य

संजीवनी टुडे 24-10-2020 12:08:19

प्रदेशभर में महाअष्टमी और नवमीं का पर्व शनिवार को परंपरागत रूप से मनाया जा रहा है। देवी मंदिरों में इस दिन विशेष धार्मिक अनुष्ठान के कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।


जयपुर। प्रदेशभर में महाअष्टमी और नवमीं का पर्व शनिवार को परंपरागत रूप से मनाया जा रहा है। देवी मंदिरों में इस दिन विशेष धार्मिक अनुष्ठान के कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। कोरोना संक्रमण की वजह से मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ की रोकथाम के लिए विशेष प्रबंध किए गए हैं। घरों में श्रद्धालुओं ने कन्या पूजन कर महागौरी की विधिवत पूजा-अर्चना की तथा माता से कोरोना महामारी के बचाव के साथ परिवार, समाज, देश व प्रदेश में खुशहाली की कामनाएं की।

इस बार दुर्गा अष्टमी, महानवमीं और दशहरा की तिथियों को लेकर लोगों में दुविधा की स्थिति है। हिन्दी पंचांग के आधार पर तिथियां अंग्रेजी कैलेंडर की तारीखों की तरह 24 घंटे की नहीं होती हैं। ये तिथियां 24 घंटे से कम और ज्यादा की हो सकती हैं। कई बार ये तिथियां एक ही तारीख को पड़ जाती हैं, जिससे दो व्रत या त्योहार एक ही दिन पड़ जाते हैं। इस वर्ष अष्टमी तिथि का प्रारंभ 23 अक्टूबर को सुबह 06 बजकर 57 मिनट पर हुआ है, जो अगले दिन 24 अक्टूबर को सुबह 06 बजकर 58 मिनट तक रहेगा। ऐसे में इस वर्ष महाअष्टमी का व्रत 23 अक्टूबर को रखा गया। इस वर्ष महानवमी तिथि का प्रारंभ 24 अक्टूबर को सुबह 06 बजकर 58 से हो रहा है, जो अगले दिन 25 अक्टूबर को सुबह 07 बजकर 41 मिनट तक है। ऐसे में महानवमी का व्रत 24 अक्टूबर को रखा जाएगा। 

शारदीय नवरात्रि में कन्या पूजन 24 अक्टूबर को घरों में श्रद्धा और उल्लास के साथ किया गया। देवी मंदिरों में धार्मिक अनुष्ठान का आयोजन हुआ। मंदिरों में भरने वाले मेले इस बार कोरोना के कारण आयोजित नहीं हुए। श्रद्धालुओं को देवी मंदिरों में दर्शन व पूजा-अर्चना भी कोरोना गाइडलाइन की पालना के अनुरूप करवाए गए। 

यह खबर भी पढ़े: अयोध्या में होने वाले भव्य दीपोत्सव कार्यक्रमों का होगा लाइव प्रसारण

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From religion

Trending Now
Recommended