संजीवनी टुडे

Chandra grahan: आज लगने जा रहा है साल का तीसरा चंद्र ग्रहण, जानिए भारत पर कैसा होगा इसका असर

संजीवनी टुडे 05-07-2020 08:46:52

आज रविवार को इस साल का तीसरा चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। इसी दिन गुरु पूर्णिमा भी है। ये चंद्र ग्रहण धनु राशि में लगेगा। ये साल का तीसरा चंद्र ग्रहण होगा। और एक महीने के अंदर ही लगने वाला ये तीसरा ग्रहण भी है।


डेस्क। आज रविवार को इस साल का तीसरा चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। इसी दिन गुरु पूर्णिमा भी है। ये चंद्र ग्रहण धनु राशि में लगेगा। ये साल का तीसरा चंद्र ग्रहण होगा। और एक महीने के अंदर ही लगने वाला ये तीसरा ग्रहण भी है। यह ग्रहण वास्तविक चंद्र ग्रहण ना होकर एक उपछाया चंद्र ग्रहण होगा। उपछाया चंद्र ग्रहण को धार्मिक लिहाज से बहुत ज्यादा मान्यता नहीं दी जाती है। 5 जुलाई को लगने वाला उपछाया चंद्र ग्रहण सुबह 8 बजकर 37 मिनट पर शुरू होगा जो 11 बजकर 22 मिनट पर समाप्त हो जाएगा। 

Lunar eclipse

कहां दिखेगा चंद्र ग्रहण?

ये चंद्र ग्रहण अमेरिका, दक्षिण-पश्चिम यूरोप और अफ्रीका के कुछ हिस्से में दिखाई देगा। यह ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा। ग्रहण काल में चंद्रमा कहीं से कटा हुआ होने की बजाय अपने पूरे आकार में नजर आएगा। ग्रहण काल के दौरान चंद्रमा धनु राशि में होंगे। 

इस चंद्र ग्रहण की खास बातें: 

आज 5 जुलाई को लगने वाला ग्रहण उपछाया चंद्र ग्रहण होगा। शास्त्रों में उपछाया चंद्र ग्रहण को ग्रहण नहीं माना जाता है. इसलिए इस दिन कोई भी कार्य करने पर प्रतिबंध नहीं होगा. हालांकि ज्योतिषविद थोड़ी बहुत सावधानी बरतने की सलाह जरूर देते हैं. यह ग्रहण धनु राशि में पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र के दौरान, शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को लगेगा. खास बात ये है कि इसी दिन गुरू पूर्णिमा भी है. इस उपछाया चंद्रग्रहण को धनुर्धारी चंद्रग्रहण भी कहा जा रहा है। 

Lunar eclipse

जानिए क्या होता है उपछाया चंद्र ग्रहण

यह उपछाया चंद्र ग्रहण है। इस दिन गुरु पूर्णिमा भी है, यह अद्भुत संयोग बन रहा है। जब पृथ्वी, सूर्य और चंद्रमा के बीच में आ जाती है अर्थात सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सीधी रेखा में होते है तो चंद्रग्रहण होता है। लेकिन जब पृथ्वी, सूर्य और चंद्रमा के बीच में तो होती है परन्तु तीनों एक सीधी लाइन में नहीं होते हैं तो उपछाया चंद्रग्रहण होता है।

क्या इस चंद्र ग्रहण पर सूतक लगेगा?

ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार उपछाया चंद्र ग्रहण को ग्रहण की श्रेणी में नहीं रखा जाता है। इसलिए बाकी ग्रहण की तरह इस उपछाया चंद्र ग्रहण में सूतक काल नहीं लगेगा. सूतक काल मान्य ना होने की वजह से मंदिरों के कपाट बंद नहीं किए जाएंगे और ना ही पूजा-पाठ वर्जित होगी। इसलिए इस दिन आप सामान्य दिन की तरह ही सभी काम कर सकते हैं। 

चंद्र ग्रहण का इस राशि पर सबसे ज्यादा असर

ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार रविवार, 5 जुलाई को लगने वाला चंद्र ग्रहण धनु राशि में लग रहा है। जिस समय ये ग्रहण लग रहा है उस समय कर्क लग्न उदित होगा। धनु राशि के लोगों को चंद्र ग्रहण के समय बहुत सावधान रहने की जरूरत है। इस राशि के लोगों को अपनी सेहत और दांपत्य जीवन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होगी। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

ग्रहण के दौरान रखें इन बातों का ध्यान 

यह ग्रहण चन्द्रमा का उपछाया ग्रहण है. इसमें चन्द्रमा पर केवल छाया की स्थिति रहेगी. इसमें किसी के लिए कोई भी सूतक के नियम लागू नहीं होंगे. पूर्णिमा की पूजा उपासना भी विधि विधान से की जा सकेगी. उपछाया चंद्र ग्रहण में ज्यादा घबराने की जरूरत नहीं है हालांकि थोड़ी सावधानी जरूर रखनी चाहिए और ग्रहण के नियमों का पालन करना चाहिए

यह खबर भी पढ़े: अद्भुत संजोग: सावन मास का शुभारंभ भी सोमवार से वहीं समापन भी सोमवार को ही होगा

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From religion

Trending Now
Recommended