संजीवनी टुडे

बसंत पंचमी कल: जानिए इस दिन क्या करें जिससे माता सरस्वती का आशीर्वाद प्राप्त हो...

संजीवनी टुडे 28-01-2020 10:17:47

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार बसंत पंचमी का त्योहार माघ मास शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है। बसंत पंचमी पर देवी सरस्वती की विशेष पूजा का विधान है। इस वर्ष वसंत पंचमी 29 जनवरी 2020 बुधवार को तो मत-मतांतर के चलते कई स्थानों पर यह 30 जनवरी 2020 गुरुवार को मनाई जाएगी।


डेस्क। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, बसंत पंचमी का त्योहार माघ मास शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है। बसंत पंचमी पर देवी सरस्वती की विशेष पूजा का विधान है। इस वर्ष वसंत पंचमी 29 जनवरी 2020, बुधवार को तो मत-मतांतर के चलते कई स्थानों पर यह 30 जनवरी 2020, गुरुवार को मनाई जाएगी। लेकिन यदि आप यह जान लें कि इस दिन आपको बसंत पंचमी के दिन क्या करना चाहिए तो आप बसंत पंचमी का पूर्ण लाभ प्राप्त कर माता सरस्वती का आशीर्वाद  प्राप्त कर सकते हैं, जिसके बाद आपकी विद्या में आ रही सभी प्रकार की समस्याएं समाप्त हो जाएगी। तो चलिए जानते हैं बसंत पंचमी पर क्या करें...

 ये खबर भी पढ़े: मनोकामना पूर्ति के लिए मंगलवार को इस आरती से करें हनुमान जी की पूजा

Basant Panchami

बसंत पंचमी पर क्या करें 

-हिन्दु कैलेण्डर के अनुसार प्रत्येक वर्ष माघ मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाए जाने वाले इस त्योहार के दिन ही ब्रह्माण्ड के रचयिता ब्रह्माजी ने सरस्वती की रचना की थी।

- बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा में उन्हें हल्दी अवश्य अर्पित करें और उस हल्दी से अपनी पुस्तकों पर ऐं लिखें। ऐसा करने से आपकी विद्या की सभी परेशानी समाप्त हो जाएगी।

Basant Panchami

-बसंत पंचमी के दिन पुखराज और मोती धारण करना अत्यंत ही शुभ रहता है। 

-अगर आप इस दिन मां सरस्वती को कलम अर्पित करके पूरा साल उस कलम से ही काम करते हैं तो आपको जीवन में तरक्की अवश्य प्राप्त होगी।

-बसंत पंचमी पर कुछ भी लिखने से पहले ऐं अवश्य लिखें। ऐसा करने से आपको मां सरस्वती का आर्शीवाद प्राप्त होगा।

-बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती को खीर का भोग अवश्य लगाएं और स्वंय भी पूरे परिवार के साथ मिलकर उस खीर को खाएं। 

- बसंत पंचमी के पर्व पर मां सरस्वती को पीले अथवा सफेद फूल अवश्य अर्पित करें।

-बसंत पंचमी के दिन केवल मां सरस्वती को पीली और सफेद मिठाई को भोग अवश्य लगाएं।

Basant Panchami

-बसंत पंचमी के दिन किसी पवित्र नदी में स्नान अवश्य करना चाहिए और मां सरस्वती की पूजा करने के बाद ही कुछ ग्रहण करना चाहिए।

-बसंत पंचमी के दिन आपको अपनी विद्या देने वाली सभी चीजों का भी पूजन करना चाहिए।

-अगर आप संगीत सीख रहे हैं तो आपको अपने संगीत के यंत्रों की पूजा भी अवश्य करनी चाहिए। क्योंकि मां सरस्वती को संगीत की देवी भी माना जाता है। 

बसंत पंचमी पर्व का शुभ मुहूर्त 

पूजा मुहूर्त - 10:45 से 12:35 बजे तक
पंचमी तिथि का आरंभ - 10:45 बजे से (29 जनवरी 2020)
पंचमी तिथि समाप्त - 13:18 बजे (30 जनवरी 2020) तक

 जयपुर में प्लॉट मात्र 289/- प्रति sq. Feet में बुक करें 9314166166

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From religion

Trending Now
Recommended