संजीवनी टुडे

विधायकों का विश्वास खो चुके हैं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत: डॉ. पूनियां

संजीवनी टुडे 13-07-2020 21:51:56

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने प्रदेश में चल रहे सियासी घटनाक्रम पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी के विचार एवं व्यवहार से उसका आधार खत्म होता जा रहा है,


जयपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने प्रदेश में चल रहे सियासी घटनाक्रम पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी के विचार एवं व्यवहार से उसका आधार खत्म होता जा रहा है, जिसका कारण है नेहरू- गांधी खानदान, उसी वंशवाद की परम्परा के आधार पर पार्टी चली और नई लीडरशिप को उभरने नहीं दिया गया।

पत्रकारों के सवालों के जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार, जातिवाद और अराजकता की बुनियाद पर राज करती रही कांग्रेस को 2014 के चुनाव में जनता ने कांग्रेस को केन्द्र की सत्ता से मुक्त कर दिया, 2019 में भी यही साबित हुआ।

डॉ. पूनियां ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा कि राजस्थान में कांग्रेस 2008 में अल्पमत में थी, जिसने बसपा के विधायकों को तोड़कर अपनी सत्ता बचाई, 2018 में भी यही खेल हुआ और अब राज्य सरकार की बुनियाद अन्तर्कलह एवं अन्तर्विरोध पर है, हो सकता है किन्ही कारणों से राज्यसभा चुनाव के समय डैमेज कंट्रोल किया गया हो, अब उनकी फूट भी उजागर हो गई, डैमेज कंट्रोल भी उजागर हो गया, आखिर कांग्रेस में ऐसी परिस्थिति क्यों बनी, इस बारे में मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस आलाकमान बताये।

उन्होंने कहा कि बाबू जगजीवन राम, माधवराज सिंधिया, राजेश पायलट, नरसिम्हा राव जैसे दिग्गज नेताओं की कांग्रेस में उपेक्षा हुई थी, समय रहते पीढ़ी का बदलाव नहीं हुआ, नेहरू-गांंधी खानदान के जो चापलूस लोग थे उन्हें ही सत्ता में भागीदारी मिलती गई, बाकि लोगों को हाशिये पर रखा गया, कांग्रेस में जब नये नेतृत्व की बात आती है तो नये नेतृत्व पर प्रश्न खड़े किये जाते हैं और शंका की जाती है।

कांग्रेस में नये नेतृत्व को लेकर पूछे गये सवाल पर डॉ. पूनियां ने कहा कि कांग्रेस में नई पीढ़ी के नेताओं में विरोध एवं आक्रोश था, चाहे वे मिलिंद देवड़ा हो, सचिन पायलट हों, ज्योतिरादित्य सिंधिया, इसलिये यह साबित हो गया कि युग के हिसाब से कांग्रेस ने अपने आपको बदला नहीं और इन्हीं कारणों से देश के राजनीतिक नक्शे से कांग्रेस गायब हो गई। 

उन्होंने कहा कि, मुख्यमंत्री गहलोत की सरकार प्रदेश के लोगों के मन से उतर चुकी है, यह शुरू से ही निरपेक्ष बहुमत की सरकार नहीं थी, इस सरकार का चले जाना ही राजस्थान की जनता के हक एवं हित में है, हम अपनी परिस्थितियों को देखेंगे, क्या परिस्थितियां बनती हैं, उम्मीद है कि सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे, हमारी पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व के निर्देशों की हम पालना करेंगे।

कांग्रेस सरकार द्वारा विधायकों की बाडाबंदी पर डॉ. पूनियां ने कहा कि जितने विधायकों का वह दावा कर रहे थे उतने नहीं पहुंचे, पुलिस की घेराबंदी से देर रात विधायकों को उनके आवासों से जबरन बाड़ाबंदी में पहुंचाया गया। विधायकों के घरों के बाहर पुलिस का पहरा बिठाया गया, उससे साबित हो गया है कि विधायकों को जबरन डरा-धमकाकर बाडाबंदी में ले जाया गया है।

यह खबर भी पढ़े: राहुल गांधी ने लगाए आरोप, कहा- मीडिया पर फासीवादी ताकतों का कब्जा, जो अलग ही कहानी पेश करता है

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From rajasthan

Trending Now
Recommended