संजीवनी टुडे

सुशील मोदी ने विपक्ष पर जमकर बोला हमला

संजीवनी टुडे 12-02-2019 20:33:19


पटना। बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मंगलवार को विपक्ष पर जमकर हमला बोला।उन्होंने ट्वीट कर कहा कि बिहार की एनडीए सरकार ने इतना शानदार वित्तीय प्रबंधन किया कि 2017-18 में विकास दर 2 फीसद बढ़ी। देश के कई राज्य हमारी अर्थव्यवस्था को फॉलो कर रहे हैं। गैरसरकारी रेटिंग एजेंसी क्रिसिल की रिपोर्ट में भी हमारी विकास दर 9.9 से बढ़कर 11.9 होने की उपलब्धि की सराहना की गई।

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.30 लाख में Call On: 09314188188

श्री मोदी ने कहा कि बजट का स्वागत करने के बजाय ईर्ष्यालु, भ्रष्टाचार समर्थक और अविश्वसनीय पार्टियां बजट का विरोध कर रही हैं। इसे खोखला बताने वालों की आर्थिक समझ खोखली है, लेकिन उनका दिवालियापन दूर करने के लिए सरकार कुछ नहीं कर सकती। 

उन्होंने कहा कि एनडीए सरकार में बिहार का राजकोषीय घाटा लगातार तीन फीसदी से कम रहा। आरबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक विकास पर हमारा व्यय पर बेहतर रहा। सरकार की शराबबंदी नीति ने गरीबों की किस्मत बदल दी। इस साल आर्थिक और सामाजिक सुधार के लिए उसी बिहार को 11 अलग-अलग पुरस्कार मिले, जिसे 15 साल के लालू-राबड़ी राज में बीमारू और पिछड़ा बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी गई थी। 

बिहार का यह बढ़ता सम्मान उन लोगों को अच्छा कैसे लगेगा, जो रोज चुनिंदा घटनाओं पर छाती पीट कर ऱाज्य को बदनाम करने में लगे हैं? 

श्री मोदी ने कहा कि 2004-05 के बजट से आठ गुणा ज्यादा धनराशि के इस बजट में पूंजीगत व्यय पर 45 हजार 270 हजार करोड़ खर्च होंगे। वेतन पेंशन पर भी सरकार का ध्यान है, जिसमें संविदाकर्मी भी शामिल हैं। बिहार की खुदरा महंगाई दर 2.7 पर नियंत्रित है। 

विरोधियों से महंगाई का मुद्दा छिन गया और जनता को सामान वाजिब दाम पर मिल रहे हैं। क्या इसी लिए बजट खोखला है? 

उन्होंने कहा कि वित्तीय साल 2019-20 में 24 हजार 420 करोड़ रुपए का ऋण देने का प्रावधान किया गया है। केंद्रीय करों में राज्य की हिस्सेदारी बढ़ने की उम्मीद है। 34 हजार798 करोड़ रुपए शिक्षा पर,लगभग 18 हजार करोड़ रुपए सड़कों पर और ग्रामीण विकास पर 15 हजार 669 करोड़ खर्च किये जांएंगे। राज्य के सभी गांवों में समय से पहले बिजली पहुंच गई है।

MUST WATCH & SUBSCRIBE

बिहार लालटेन युग से मुक्ति का जश्न मनाने वाला देश का आठवां राज्य बन गया है। उन्होंने कहा कि लालटेन युग के लोगों को यह अच्छा कैसे लगेगा?

More From politics

Trending Now
Recommended