संजीवनी टुडे

Rajasthan Politics/एक बार फिर चला गहलोत का जादू, एक फोन कॉल से डाल दी पायलट के खेमे में फूट

संजीवनी टुडे 15-07-2020 08:35:27

अपने विरोधियों पर हमेशा भारी पड़ने वाले गहलोत ने सचिन की छुट्टी कराकर एक बार फिर साबित कर दिया कि वे वास्तव में राजनीति के जादूगर हैं।


जयपुर। राजस्थान के सियासी ड्रामे का पटाक्षेप हो गया है। सचिन पायलट को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को चुनौती देना आखिरकार भारी पड़ा और उनका पत्ता साफ हो गया। अपने विरोधियों पर हमेशा भारी पड़ने वाले गहलोत ने सचिन की छुट्टी कराकर एक बार फिर साबित कर दिया कि वे वास्तव में राजनीति के ‘जादूगर’ हैं।

Sachin Pilot

कांग्रेस आलाकमान ने गहलोत की जादूगरी पर भरोसा जताते हुए बागी तेवर दिखा रहे सचिन पायलट को डिप्टी सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से हटाने पर हामी भर ही दी। साथ ही पायलट के करीबी दो मंत्रियों को भी बर्खास्त कर दिया गया है। इन सबके पीछे अशोक गहलोत के बेहद करीबी और तीन बार विधायक रह चुके प्रद्युम्न सिंह की अहम भूमिका है। 

Sachin Pilot

प्रद्युम्न सिंह सचिन खेमे में गए चार बागी विधायकों को समझा-बुझाकर वापस लाने के लिए शुक्रवार से ही दिल्ली में थे। इन चार विधायकों में प्रद्युम्न सिंह के बेटे रोहित बोहरा, कांग्रेस नेता दानिश अबरार, प्रशांत बैरवा, चेतन डूडी शामिल हैं, जो सचिन पायलट के बेहद करीबी माने जाते थे। अशोक गहलोत शनिवार को किसी तरह रोहित बोहरा से फोन पर संपर्क करने में कामयाब हुए। बोहरा के जरिए ही वो बाकी तीनों विधायकों से बात कर पाए।

Sachin Pilot

सूत्रों के मुताबिक गहलोत ने चारों विधायकों को ये समझाया कि सचिन पायलट के साथ जाकर उनका राजनीतिक भविष्य अच्छा नहीं होगा। तब पायलट के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें तेज थी। गहलोत ने चारों विधायकों की मांगे सुनने और उन्हें सरकार में अहम जिम्मेदारियां देने का भी भरोसा दिया था।

Sachin Pilot

सूत्रों के मुताबिक, गहलोत से फोन पर बातचीत के बाद चारों बागी नेता दिल्ली छोड़कर रविवार सुबह 4 बजे जयपुर पहुंचे। फिर उनकी गहलोत के साथ अलग-अलग बैठकें हुईं। उनकी वापसी के साथ ही अशोक गहलोत सचिन पायलट के खेमे को तोड़ पाए। चारों विधायकों ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की और ऐलान किया कि वो अशोक गहलोत के साथ हैं। इन चारों विधायकों में शामिल अबरार ने कहा था, 'हम पीढ़ियों से कांग्रेस के सिपाही हैं और पार्टी में ही रहेंगे।

Sachin Pilot

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद अशोक गहलोत आश्वस्त हो गए और उन्होंने सोमवार को कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग बुला ली। बताया जा रहा है कि इस मीटिंग में सचिन पायलट को भी आने के लिए कई बार कॉल और मैसेज किया गया था। कई नेता उनसे दिल्ली में भी संपर्क करने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन पायलट ने किसी भी कॉल और मैसेज का जवाब नहीं दिया।

Sachin Pilot

बहरहाल सोमवार को हुई कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग में सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों के खिलाफ सख्त अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का प्रस्ताव पास हुआ। मंगलवार को पार्टी ने सचिन पायलट को डिप्टी सीएम और पीसीसी अध्यक्ष पद से हटा दिया। उनके दो सहयोगी भी बर्खास्त कर दिए गए। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

यह खबर भी पढ़े: डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष पद छीने जाने के बाद अब क्या करेंगे सचिन पायलट? जानिए क्या विकल्प बचे है उनके पास

यह खबर भी पढ़े: भगवान राम पर बेतुका बयान देकर अपने ही देश में घिरे नेपाली पीएम ओली, लोगों ने बनाया मजाक

 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From politics

Trending Now
Recommended