संजीवनी टुडे

राजस्थान में सियासी विवाद को आज ही निपटाना चाहता है कांग्रेस आलाकमान, पायलट से कहा है- बात बढ़ाने से पहले बैठक में शामिल हों

संजीवनी टुडे 14-07-2020 08:15:13

कांग्रेस आलाकमान ने राजस्थान कांग्रेस में जारी खींचतान को सुलझाने के लिए कोशिशें तेज कर दी हैं।


जयपुर। जहां एक ओर कोरोना वायरस का संक्रमण चरम पर है, वहीं दूसरी ओर राजस्थान का सियासी ड्रामा थमने का नाम नहीं ले रहा है। कांग्रेस विधायक दल ने सोमवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समर्थन में प्रस्ताव पारित किया और सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में आस्था जताई। मुख्यमंत्री गहलोत के सरकारी निवास पर विधायक दल की बैठक में यह प्रस्ताव पारित किया गया। लेकिन अभी भी उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट अपने बगावती तेवर दिखा रहे है। ऐसे में आज फिर सुबह 10 बजे फिर से विधायक दल की बैठक बुलाई गई है। 

Sachin Pilot

इस तरह से कांग्रेस आलाकमान ने राजस्थान कांग्रेस में जारी खींचतान को सुलझाने के लिए कोशिशें तेज कर दी हैं। कांग्रेस आलाकमान ने सचिन पायलट से कहा है कि आगे कोई भी बात बढ़ाने से पहले वे जयपुर में विधायक दल की बैठक में शामिल हों। सूत्रों के मुताबिक, पार्टी आलाकमान इस मामले को बहुत ज्यादा नहीं खींचना चाहता और कोशिश है कि मंगलवार तक इसका समाधान निकल जाए। 

कांग्रेस आलाकमान को लगता है कि सचिन पायलट का ऐसे वक्त में अड़ जाना सही फैसला नहीं है जबकि उन्हें मात्र 15 विधायकों का ही समर्थन प्राप्त है। कांग्रेस के एक सीनियर नेता की मानें तो सचिन पायलट अभी अपने समर्थकों को एकजुट रख पाने में सक्षम नहीं हैं क्योंकि वे चाहते हैं कि विधायक पहले इस्तीफा दें, जबकि विधायक इसके लिए तैयार नहीं हैं। 

Sachin Pilot

वहीं, कांग्रेस के एक सीनियर नेता की माने तो सचिन पायलट अभी भी सीएम पद की मांग से हटने के लिए तैयार नहीं हैं। पार्टी को लगता है कि सचिन की मांग अनुचित है और वरिष्ठ नेताओं द्वारा मामले को सुलझाने के प्रयासों के बावजूद गतिरोध जारी है। 

सियासी संकट सुलझाने में लगे एक नेता ने कहा कि सचिन पायलट खुद पहले कह चुके हैं कि विधायक ही तय करेंगे कि उनका सीएम कौन होगा, ऐसे में उनकी मांगों में विरोधाभास की साफ झलक दिखती है। मामला आगे बढ़ने से पार्टी की छवि पर असर पड़ता दिख रहा है, लिहाजा आलाकमान इस मुद्दे को जितनी जल्दी हो सके निपटाने की कोशिश में है। 

भाजपा ने कहा- ये कांग्रेस का अंदरुनी मसला 
उधर राजस्थान में चल रही सियासी उठापटक को भाजपा ने कांग्रेस का अंदरुनी मसला बताने के साथ-साथ सोमवार को यह भी कहा कि विधायकों की गिनती के लिए सड़क, रेजॉर्ट या होटल नहीं बल्कि विधानसभा उपयुक्त स्थान है। इसी बीच, पार्टी के राजस्थान इकाई के प्रमुख ने कहा कि उनके समक्ष सभी विकल्प खुले हैं।

Sachin Pilot

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं राजस्थान के प्रभारी अविनाश राय खन्ना ने राजस्थान के घटनाक्रम पर कहा कि कांग्रेस का ही एक गुट दावा कर रहा है कि सरकार अल्पमत में है जबकि दूसरा गुट बहुमत होने का दावा कर रहा है। इनका ही एक गुट कह रहा है कि सरकार के पास बहुमत नहीं है। हमने तो कुछ नहीं कहा। ये इनकी पार्टी का मसला है। वे इसे सुलझाएं। 

यह खबर भी पढ़े: राजस्थान में कांग्रेस का घमासान, अशोक गहलोत का जादू भी नाकाम !

यह खबर भी पढ़े: अयोध्या मामला/ कल्याण सिंह बोले- कांग्रेस ने राजनीतिक दुश्मनी के चलते मुझे फंसाया, मेरे खिलाफ सभी आरोप निराधार

 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From politics

Trending Now
Recommended