संजीवनी टुडे

2014 के लोकसभा चुनाव में राज्य में खाता भी नहीं खाेल सकी थी कांग्रेस

संजीवनी टुडे 18-03-2019 11:45:22


रांची। झारखंड में लोकसभा चुनाव 2014 में कांग्रेस पार्टी एक भी सीट नहीं जीत सकी थी और कई स्थानों पर कांग्रेस तीसरे स्थान पर पहुंच गई थी। झारखंड में लोकसभा की 14 सीटें में से भारतीय जनता पार्टी ने 12 सीटों पर जीत हासिल की थी। झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के खाते में सिर्फ दो सीट गई थी।मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

वर्तमान में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार ने पिछला लोकसभा चुनाव 2014 में झारखंड विकास मोर्चा के टिकट पर लड़ा था लेकिन वे भाजपा के विद्युत वरण महतो से एक लाख से अधिक मतों से हार गए थे। इस बार डॉ. अजय के चुनाव क्षेत्र बदलने की चर्चा है। हालांकि कांग्रेस के कार्यकर्ता चाहते हैं कि वे जमशेदपुर से ही कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ें। 

कांग्रेस के बड़े नेता माने जाने वाले फुरकान अंसारी भी गोड्डा लोकसभा सीट से दूसरे स्थान पर रहे थे। भाजपा के निशिकांत दूबे ने उन्हें 60 हजार मतों से हराया था। चतरा में भी कांग्रेस दूसरे स्थान पर रही थी। पहली बार चुनाव लड़ रहे भाजपा के सुनील कुमार सिंह ने धीरज साहू को पौने दो लाख से अधिक मतों से हराया था। कोडरमा में कांग्रेस तीसरे स्थान पर रही थी। वहां से भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र कुमार राय जीते थे तथा माले के राजकुमार यादव दूसरे स्थान पर रहे थे। धनबाद लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस के दिग्गज चंद्रशेखर दूबे उर्फ ददई दूबे के बेटे अजय कुमार दूबे ने चुनाव लड़ा था।

 उन्हें भाजपा के पीएन सिंह ने लगभग तीन लाख मतों से पराजित किया था। रांची से कांग्रेस के टिकट पर पूर्व गृह राज्यमंत्री सुबोधकांत सहाय चुनाव मैदान में उतरे थे। उन्हें भारतीय जनता पार्टी के रामटहल चौधरी ने दो लाख वोटों से हराया था। हालांकि इससे पहले सुबोधकांत सहाय लगातार दो बार 2004 और 2009 में रांची सीट से विजयी रहे थे। सिंहभूम (चाईबासा) लोकसभा क्षेत्र से चित्रसेन सिंकू कांग्रेस के उम्मीदवार थे, लेकिन जनता ने उन्हें तीसरा स्थान दिया था। 

वहां से भाजपा के वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा ने शानदार जीत दर्ज की थी। दूसरे स्थान पर भासपा से गीता कोड़ा रही थीं। गीता कोड़ा पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा की पत्नी हैं। इस बार भी वे कांग्रेस के टिकट की दावेदारी जता रही हैं। खूंटी लोकसभा क्षेत्र में भी पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के कालीचरण मुंडा तीसरे स्थान पर रहे थे। वहां से भाजपा के करिया मुंडा ने चुनाव जीता था। उन्होंने लगभग एक लाख मतों से झापा के एनोस एक्का को हराया था।

 कालीचरण अब एनोस एक्का की हत्या मामले में जेल में हैं। लोहरदगा लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस के उम्मीदवार पूर्व आईपीएस ऑफिसर रामेश्वर उरांव थे। उन्हें भारतीय जनता पार्टी के सुदर्शन भगत ने एक लाख से अधिक मतों से हराया था। हजारीबाग लोकसभा क्षेत्र से भी कांग्रेस के सौरव नारायण सिंह दूसरे स्थान पर थे। भारतीय जनता पार्टी के जयंत सिन्हा ने डेढ़ लाख से अधिक मतों से हराया था। तीसरे स्थान पर आजसू के लोकनाथ महतो तीसरे स्थान पर रहे थे। 

लोकसभा 2014 के चुनाव के परिणाम

राजमहल (एसटी)
विजय कुमार हांसदा (झामुमो) 3,79,507
हेमलाल मुर्मू (भाजपा) 3,38,170
डॉ. अनिल मुर्मू (झाविमो) 97,374

दुमका (एसटी)
शिबू सोरेन (झामुमो) 3,35,815
सुनील सोरेन (भाजपा) 2,96,785
बाबूलाल मरांडी (झाविमो) 1.58,122

गोड्डा (सामान्य)
निशिकांत दुबे (भाजपा) 3,80,500
फुरकान अंसारी (कांग्रेस) 3,19,818
प्रदीप यादव (झाविमो) 1,93,506

चतरा (सामान्य)
सुनील कुमार सिंह (भाजपा) 2,95,862
धीरज कुमार साहू (कांग्रेस) 1,17,836
नीलम देवी (झाविमो) 1,04,176


कोडरमा (सामान्य)
रवींद्र कुमार राय (भाजपा) 3,65,410
राजकुमार यादव (माले) 2,66,756
तिलकधारी सिंह (कांग्रेस) 60,330


गिरिडीह (सामान्य)
रवींद्र कुमार पांडेय (भाजपा) 3,91,913
जगरनाथ महतो (झामुमो) 3,51,600
शबा अहमद (झाविमो) 57,३८०

धनबाद (सामान्य)
पशुपतिनाथ सिंह (भाजपा) 5,43,491
अजय कुमार दुबे (कांग्रेस) 2,50,537
समरेश सिंह (झाविमो) 90,926 

रांची (सामान्य)
रामटहल चौधरी (भाजपा) 4,48,729
सुबोधकांत सहाय (कांग्रेस) 2,49,426
सुदेश महतो (आजसू) 1,42,560

जमशेदपुर (सामान्य)
विद्युत वरण महतो (भाजपा) 4,64,153
अजय कुमार (झाविमो) 3,64,277
निरूप मोहंती (झामुमो) 1,38,109
सिंहभूम ( चाईबासा, एसटी)
लक्ष्मण गिलुआ (भाजपा) 3,03,131
गीता कोड़ा (भासपा) 2,15,607
चित्रसेन सिंकू (कांग्रेस) 1,11,796

खूंटी (एसटी)
कड़िया मुंडा (भाजपा) 2,69,185
एनोस एक्का (झापा) 1,76,937
कालीचरण मुंडा (कांग्रेस) 1,47,017

लोहरदगा (एसटी)
सुदर्शन भगत (भाजपा) 2,26,666
रामेश्वर उरांव (कांग्रेस) 2,20,177
चमरा लिंडा (तृणमूल कांग्रेस) 1,18,355
पलामू (एससी)
विष्णु दयाल राम (भाजपा) 4,76,513
मनोज कुमार (राजद) 2,12,571
घुरन राम (झाविमो) 1,56,832 

हजारीबाग (सामान्य) 
जयंत सिन्हा (भाजपा) 4,06,931
सौरभ नारायण सिंह (कांग्रेस) 2,47,803
लोकनाथ महतो (आजसू) 1,56,186

पिछले लोकसभा चुनाव में तीसरे स्थान पर रहे थे झाविमो के बाबूलाल मरांडी

इस बार के विपक्ष के महागठबंधन के बड़े नेताओं में एक झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी पिछले चुनाव में दुमका से तीसरे स्थान पर रहे थे। यहां से झारखंड मुक्ति मोर्चा के सुप्रीमो शिबू सोरेन ने भाजपा के सुनील सोरेन को हराया था। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

हालांकि इस बार महागठबंधन में झारखंड विकास मोर्चा और झारखंड मुक्ति मोर्चा एक ही छतरी के नीचे हैं। पिछली बार की करारी हार को देखते हुए उन्होंने अपना निर्वाचन क्षेत्र बदलने का मन बनाया है। उनके कोडरमा से चुनाव लड़ने की योजना है। महागठबंधन भी इसके लिए तैयार दिख रहा है। हालांकि अभी तक पार्टी ने घोषणा नहीं की है। 

More From politics

Trending Now
Recommended