संजीवनी टुडे

Rajasthan Politics Update/कांग्रेस के बाद अब BJP ने भी शुरू की बाड़ेबंदी, 12 विधायकों को भेजा गुजरात, भाजपा नेता ने कबूली ये बात

संजीवनी टुडे 08-08-2020 11:47:49

बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता विधायक रामलाल शर्मा ने कांग्रेस सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि कांग्रेस के एसओजी के हथियार फेल हो गए तो अब कांग्रेस सरकार बीजेपी के विधायकों को डरा-धमका कर उन्हें प्रलोभन दे रही है।


जयपुर। राजस्थान में विधायकों की बाड़ेबंदी का सियासी ड्रामा चल रहा है। एक तरफ अशोक गहलोत खेमे के विधायकों को बाड़ेबंदी में रखा गया है तो दूसरी तरफ सचिन पायलट के खेमे के विधायक हरियाणा की रिसॉर्ट में हैं। इसी बीच अब राजस्थान के उदयपुर में एक बड़ी खबर सामने आई है, जहां कांग्रेस के बाद अब बीजेपी (BJP) ने भी अपने विधायकों की तोड़फोड़ को रोकने के लिए बाड़ेबंदी शुरू कर दी है। 

जानकारी के मुताबिक, गुजरात सीमा से जुड़े पांच जिले के 12 विधायकों को बीजेपी ने अहमदाबाद भेज दिया है। इन सभी विधायकों को अहमदाबाद में एक होटल में रखा गया है। बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता विधायक रामलाल शर्मा ने कांग्रेस सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि कांग्रेस के एसओजी के हथियार फेल हो गए तो अब कांग्रेस सरकार बीजेपी के विधायकों को डरा-धमका कर उन्हें प्रलोभन दे रही है। 

ऐसे में बीजेपी ने अपने विधायकों को विरोधी खेमे से बचाने की कवायद शुरू कर दी है। बीजेपी ने इस काम की शुरुआत वागड़ के साथ ही सिरोही और जालोर के एक दर्जन विधायकों को गुजरात शिफ्ट करते करते हुए की। पार्टी ने विधायकों को तीन कैटेगरी में बांटकर अपनी रणनीति को अंजाम देना शुरू कर दिया है। इस पूरे काम में बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष के साथ नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, उपनेता राजेन्द्र राठौड़ लगातार निगरानी बनाए हुए हैं।

बताया जा रहा है कि बीजेपी के कुछ विधायकों से गहलोत गुट ने संपर्क करने की कोशिश की है। ऐसे में बीजेपी को डर है कि 11 अगस्त को अगर हाईकोर्ट बीएसपी विधायकों के कांग्रेस में विलय पर स्टे लगा देता है तो फिर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार बचाने के लिए बीजेपी में तोड़फोड़ कर सकते हैं। बीजेपी के डर की दूसरी वजह पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की नाराजगी भी है।  

जबकि भाजपा विधायक रामलाल शर्मा ने कहा कि कांग्रेस सरकार बीजेपी के विधायकों के खिलाफ जन आंदोलनों के दौरान दर्ज हुए मामलों को विड्रॉ करने का प्रलोभन देकर सत्ता पक्ष में शामिल होने का कह रही है। उन्होंने कहा कि यह कांग्रेस का पुराना कल्चर चल रहा है। इसकी मैं कड़ी निंदा करता हूं। 

दरअसल, वसुंधरा राजे की वजह से उनके समर्थक विधायकों को अपने पाले में लाने की सीएम गहलोत ने तथाकथित रूप से कोशिश की है। बता दें कि राजस्थान में 14 अगस्त से विधानसभा का सत्र शुरू होने जा रहा है। सीएम गहलोत विश्वास प्रस्ताव पेश कर सकते हैं। यही वजह है कि बीजेपी पहले से सतर्क हो गई है। 

यह खबर भी पढ़े: Rajasthan Politics Update/सचिन पायलट के नजदीकी माने जाने वाले कांग्रेस विधायक प्रशांत बैरवा ने किया बड़ा दावा, कही ये बड़ी बात

यह खबर भी पढ़े: बड़ा सवाल, VIVO को हटाने के बाद कौन बनेगा IPL 2020 का टाइटल स्पॉन्सर? जानिए कौन सी कंपनी है सबसे आगे

 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From politics

Trending Now
Recommended