संजीवनी टुडे

वैश्य सम्मेलन में गूंजते रहे प्रधानमंत्री मोदी के शब्द

संजीवनी टुडे 18-02-2019 17:34:17


पटना। बिहार चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के सभागार में सोमवार को अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन की बिहार प्रदेश इकाई ने राजनीति, व्यापार और उद्योग में वैश्य समाज की भूमिका की तलाश करने के लिए कार्यक्रम आयोजित किया मगर इस पर पुलवामा में शहीद हुये जवानों का जबरदस्त असर देखा गया। कार्यक्रम का उद्घाटन करने वाले सिक्किम के राज्यपाल गंगा प्रसाद सहित इसमें शिरकत करने वाले तमाम वक्ताओं ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी और यह विश्वास जताया कि उनके बलिदान बेकार नहीं जाएंगे। 

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.30 लाख में Call On: 09314188188

एक के बाद एक लगभग सभी वक्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बरौनी में कहे गये उन शब्दों को दोहराया जिसमें उन्होंने कहा था, जो आग आपके दिल में है वही आग हमारे दिल में भी है। सारे वक्ता एक स्वर से इस बात पर जोर दे रहे थे कि आतंकियों को अब हर कीमत पर पूरी तरह से खत्म करने का वक्त आ चुका है। इस वक्त पूरा देश आतंकियों के खिलाफ प्रधानमंत्री मोदी के साथ खड़ा है। सिक्किम के महामहिम गंगा प्रसाद ने कहा कि इस वक्त पूरा भारत आक्रोशित है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेना को आतंकियों के खिलाफ किसी भी तरह की कार्रवाई करने की पूरी खुली छूट दे दी है। ऐसा भारत में पहली बार हुआ है जब सेना को छूट दी गई हो। इसके नतीजे जल्द ही सामने आएंगे।

उन्होंने कहा कि समाज के व्यापाक हित में वैश्य समाज को सामाजिक और राजनीतिक रूप से जागरुक होना होगा। सिर्फ इस आधार पर कि वैश्य समाज की जनसंख्या अधिक है उन्हें राजनीति में प्रतिनिधित्व नहीं मिल सकता। राजनीति सेवा का जरिया है। जब तक सेवा भावना से वैश्य समाज के लोग आगे नहीं आते तब तक राजनीतिक प्रतिनिधित्व की बात करने का कोई मतलब नहीं है। अब तक विभिन्न वर्गों के जितने भी बड़े नेता हुये हैं सभी ने समाज के व्यापक हित में संघर्ष किया है। उन्होंने कहा कि वैश्य समाज के लोगों ने हमेशा समाज के हित में काम किया है। यदि भामाशाह नहीं होते तो राणा प्रताप भी नहीं होते। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

जब राणा प्रताप अपना सबकुछ खोकर जंगल में भटक रहे थे तब भामा शाह ने उन्हें अपनी पूरी संपत्ति देते हुये कहा था कि यह संपत्ति राष्ट्र हित के लिए दे रहे हैं। इस देश की सेवा करने का जितना हक राणा प्रताप का है उतना ही हक उनका भी है। राणा प्रताप के साथ -साथ भामा शाह को भी याद किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि राष्ट्र सर्वोपरि है। यह हमें तय करना होगा कि कैसे यह वैभव के शिखर पर पहुंचे, कैसे यह विश्व गुरु बने। इस सम्मेलन को संबोधित करने वाले अन्य महत्वपूर्ण वक्ताओं में बिहार सरकार के पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार, विधायक संजय सरावगी, तारा किशोर प्रसाद, पटना की महापौर सीता साहू समेत अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन के बिहार प्रदेश के कई पदाधिकारी व सदस्यगण शामिल थे। इस अवसर पर अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन के प्रदेश अध्यक्ष संजीव चौरसिया भी मौजूद थे। सम्मेलन का समापन पुलवामा के शहीदों के लिए दो मिनट का मौन रखकर किया गया।

More From state

Loading...
Trending Now
Recommended