संजीवनी टुडे

बसंत पंचमी पर क्यों होती है पीले रंगों की बहार,जानिए त्योंहार की खास बातें

संजीवनी टुडे 21-01-2018 17:39:07

पंजाब। बसंत पंचमी को हरियाली का त्योहार माना जाता है। इस मौसम में किसान खेतों में लहराती हरी भरी फसल को देखकर खुश हो जाता है वहीं किसानों की औरतों को तो मानो स्वर्ग ही मिल गया हो क्योंकि बसंत रितू में खेतों में चमकने वाली पीले रंग की सरसों  की फसल किसी का भी मन मौह लेती है। लोहड़ी और माघी के बाद बसंत पंचमी का त्योहार पूरे भारत में धूमधाम से मनाया जाता है। इस साल यह त्योहार 22 जनवरी 2018 को मनाया जाएगा। बसंत पंचमी का त्योहार बंसत ऋतु के पांचवे दिन मनाया जाता हैं जिसे "ऋतु राज" कहा जाता है। माघ महीने का यह समय हर तरह के शुभ कार्य के लिए उत्तम माना जाता है। 

यह भी पढ़े:कांग्रेस के एमएलसी दीपक सिंह ने की पुलिस अधिकारी के साथ बदतमीजी

RR

बसंत को मौसम क्यों हो जाता है खास
बसंत का त्योहार मुख्यत: उत्तरी राज्य के पंजाब व बिहार में मनाया जाता है। इस दिन लोग पीले वस्त्र पहनते व भोजन बनाते हैं। बहुत सारी जगहों पर पतंग उत्सव की प्रतिस्पर्धा होती हैं। वहीं, राजस्थान में इस दिन लोग चमेली के फूल जेबों में रखते हैं। मां सरस्वती की पूजा और हवन का आयोजन भी किया जाता है।
बसंत पंचमी के दिन को मां सरस्वती के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। पुराणों के अनुसार, श्रीकृष्ण ने सरस्वती को खुश होकर वरदान दिया था कि वसंत पचंमी के दिन तुम्हारी आराधना की जाएगी। 

यह भी पढ़े: इस लड़की का डांस हो रहा है वायरल...देखकर हो जाओगे अदाओ के दीवाने

MUST WATCH

बसंत को पीले रंग में रंग जाईए
बसंत फेस्टिव के मौके पर आप भी खुद को यैलो कलर की ड्रैस में स्टाइलिश बसंती लुक दे सकते हैं। लड़के यैलो कलर में ट्रडीशनल कुर्ता पजामा, यैलो टर्बन, बंदगला जैकेट, स्वैट शर्ट, स्वैटर जैकेट के साथ डैनिम वियर कर सकते हैं। बच्चों को पीले कुर्ते के साथ ऑरेंज बास्केट वाली जैकेट तो वहीं लड़कियां यैलो पटियाला सूट, लहंगा, साड़ी पहन सकती हैं। आप वैस्टर्न ड्रैसकोड में भी यैलो कलर की कोई ड्रैस पहन कर सकती हैं, जिसके साथ यैलो कलर की फ्लोरल व पर्ल ज्वैलरी व फुटवियर ट्राई कर सकती हैं। अगर आप प्लेन यैलो कलर नहीं पहनना चाहती हैं तो कंट्रास्ट कलर या फ्लोरल प्रिंट भी चूज कर सकते हैं।

RR

बसंत पर पीले रंग होतो है मनमोहक कर देने वाला
बसंत के मौके पर सब कुछ पीला दिखाई देता है। हिंदूओं में पीला रंग शुभ माना जाता हैं। शुद्ध और सात्विक प्रवृति का प्रतीक यह रंग सादगी और निर्मलता को भी दर्शाता है। सरसों की पीले सुनहरे रंग में लहलहाती फसल धरती को भी पीली चादर से ढक देती हैं।  इस पर्व के स्वागत के लिए लोग भी पीले रंग के वस्त्र और भोजन में पीले चावल, लड्डू और केसर की खीर बनाते हैं।

Rochak News Web

More From national

Trending Now
Recommended