संजीवनी टुडे

''भारत बचाओ रैली'' में क्या बोले CM अशोक गहलोत?

संजीवनी टुडे 14-12-2019 20:46:58

कांग्रेस की भारत बचाओ रैली में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा और डॉ. मनमोहन सिंह समेत कई वरिष्ठ नेता शामिल हुए। रामलीला मैदान में हुई इस रैली में राहुल गांधी ने कहा की “ मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं बल्कि राहुल गांधी है।



नई दिल्ली। कांग्रेस की ‘भारत बचाओ रैली' में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा और डॉ. मनमोहन सिंह समेत कई वरिष्ठ नेता शामिल हुए। रामलीला मैदान में हुई इस रैली में राहुल गांधी ने कहा की “ मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं बल्कि राहुल गांधी है।

r

मैं मर जाउंगा लेकिन माफी नहीं मांगूगा। कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने बेरोजगारी, महिलाओं के खिलाफ होने वाले अत्याचार, किसान आत्महत्या, अर्थव्यवस्था आदि मुद्दों पर सरकार को घेरा। साथ ही उपस्थित लोगों से कहा कि देश को बचाना हमारा नैतिक कर्तव्य है। 

r

यह खबर भी पढ़ें: Citizenship Bill का विरोध बरकरार, जामिया विश्वविद्यालय बंद का आह्वान, कहा- हम पीछे नहीं हटने वाले......

उन्नाव मामले का जिक्र करते हुए प्रियंका ने वह बेटी न्याय की लड़ाई हार गई। रैली के दौरान उन्होंने अपने पिता स्वर्गीय राजीव गांधी का जिक्र करते हुए कहा कि इस मिट्टी में उनका खून मिला हुआ है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ‘भारत बचाओ रैली’ में भाजपा पर जमकर निशाना साधा, गहलोत ने कहा कि भारत बचाओ रैली से यह संदेश मिलता है कि देश किस दिशा में जा रहा है। लोकतंत्र की हत्या हो रही है, पूरा देश चिंतित है, भय, गुंडागर्दी और हिंसा का माहौल है। सामाजिक ताना-बाना नष्ट हो गया है, इसलिए जीडीपी गिर रही है। उन्होंने कहा कि चुनाव हारना अलग बात है, लेकिन श्री राहुल गांधी ने मुद्दे आधारित चुनावी प्रचार किया था। 

r

इनमें किसानों के, नौजवानों के रोजगार के मुद्दे थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान में हालत बेहद खराब हैं। नौकरियां लग नहीं रही हैं बल्कि जा रही हैं, मजदूर बर्बाद हो रहा है, काम-धंधे ठप्प हो रहे हैं। उन्होंने राफेल का मुद्दा फिर उठाते हुए कहा कि देश को 126 विमानों की जरूरत थी, फिर 36 ही क्यों खरीदे गये। श्री गहलोत ने कहा कि हवाई जहाज सोलह सौ करोड़ रुपए में क्यों खरीदा जा रहा है। अब भी वे मुद्दे जीवित हैं।

r

यह खबर भी पढ़ें: गंगा घाट की सीढ़ियां पर गिर पड़े PM मोदी, सुरक्षा में बड़ी चूक

उन्होंने सवाल किया कि जिस प्रकार से राष्ट्रवाद की बात की गई, क्या हम लोग राष्ट्रवादी नहीं हैं। क्या हमें भाजपा से प्रमाण पत्र लेना पड़ेगा। श्री गहलोत ने कहा कि राष्ट्रवाद की आड़ लेकर सेना के पीछे छुपकर राजनीति की गई। इंदिरा गांधी ने तो पाकिस्तान के दो टुकड़े कर दिए, 93 हजार सैनिकों से समर्पण करवा दिया, लेेकिन कभी उसके नाम पर राजनीति नहीं की गई। उन्हाेंने कहा कि वर्तमान में देश किस दिशा में जा रहा है, यह सबके लिए चिंता का विषय होना चाहिए। देश में भाजपा नहीं बल्कि आरएसएस राज कर रहा है। आरएसएस के प्रचारक मोदी जी राज कर रहे हैं। श्री गहलोत ने चुनौती देते हुए कहा कि आरएसएस में हिम्मत है, दमखम है तो नीतियों की लड़ाई करे।

r

यह खबर भी पढ़ें: राहुल गांधी के 'सावरकर' वाले बयान से खफा हुई शिवसेना, कहा- वीर सावरकर का अपमान न करें, जो समझदार.........

हमारी लड़ाई नीतियों की है, विचारधारा की है, कार्यक्रमों की है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की नीति महात्मा गांधी, पंडित जवाहर लाल नेहरू, सरदार पटेल, मौलाना आजाद के जमाने से बनी हुई है। आरएसएस में दम है तो अपनी नीतियां घोषित करे। बिना आरएसएस को पूछे देश में न मंत्री बनता है, न मुख्यमंत्री बनता है, न प्रधानमंत्री बन सकता है। इसी से लग रहा है कि देश किस दिशा में जा रहा है, यह सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा, हम सब इसलिए इक्ट्ठा हुआ है क्योंकि देश की अर्थव्यवस्था का बहुत बुरा हाल है। देश के लिए कठोर संघर्ष करना होगा। उन्होंने कहा कि नौजवानों का आज नौकरी के लिए भटकना होगा। इस पार या उस पार फैसला लेना होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended