संजीवनी टुडे

Virtual rally: गृहमंत्री ने कहा- ममता बनर्जी 10 साल का हिसाब दीजिए, बम धमाकों की संख्या ना बता देना

संजीवनी टुडे 09-06-2020 12:41:10

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये पश्चिम बंगाल जन संवाद रैली को संबोधित कर रहे हैं।


नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये पश्चिम बंगाल जन संवाद रैली को संबोधित कर रहे हैं। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने संबोधन की शुरुआत में उन्होंने दावा किया है कि बंगाल में राजनीतिक हिंसा में भाजपा के 100 से अधिक कार्यकर्ताओं को मौत के घाट उतारा गया। इन कार्यकर्ताओं की कुर्बानी बेकार नहीं जाएगी और बंगाल में परिवर्तन होगा। भाजपा बंगाल को 'सोनार बांग्ला' बनाएगी। 100 से अधिक भाजपा कार्यकर्ताओं को बंगाल में राजनीतिक हिंसा में मौत के घाट उतार दिया गया है। उनके परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त कर रहा हूं। अपनी कुर्बानी के जरिए उन्होंने सोनार बांग्ला के निर्माण की आधारशिला रखी है। उनकी कुर्बानी बेकार नहीं जाएगी। साथ ही उन्होंने कोविड-19 और अम्फन चक्रवात से मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति भी संवेदना व्यक्त की। शाह ने कहा, "मैं चक्रवात और महामारी कोरोना से मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त कर रहा हूं।" 

उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी ने राज्य के गरीबों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ नहीं लेने दिया है। उन्हें डर है कि इससे मोदी जी की लोकप्रियता बढ़ जाएगी। चुनाव बाद जब बीजेपी के मुख्यमंत्री शपथ लेंगे तो उसके एक मिनट बाद यहां आयुष्मान भारत योजना लागू हो जाएगी। ममता दीदी मैं तो हिसाब लेकर आया हूं, कल आप अपने 10 साल का हिसाब दे दीजिए। ध्यान से हिसाब देना, बम धमाकों की संख्या ना बता देना, बंद फैक्ट्रियों की संख्या ना बता दीजिएगा, भाजपा के मार दिए गए कार्यकर्ताओं का हिसाब ना बता दीजिएगा। हिसाब आना है तो विकास का लेकर आइए ममता दीदी। 

अमित शाह ने संशोधित नागरिकता कानून का जिक्र करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने करोड़ों शरणार्थियों को सम्मान देना का वादा पूरा किया। ममता जी का चेहरा मैंने उस दिन देखा था, गुस्से से चेहरा लाल हो गया था। नाम लेने, बोलने की तमीज नहीं रह गई थी। मैंने इतना गुस्सा कभी को नहीं देखा था। मैं ममता दीदी को पूछना चाहता हूं कि बांग्लादेश से आए बंगाली भाइयों ने आपका क्या बिगाड़ा है। यह बंगाल की जनता जानना चाहती है। उन्हें बताना चाहिए कि वह किन वजहों से विरोध कर रही है। मैं ममता जी जी कहना चाहता हूं कि जब मत पेटियां खुलेंगी तो बंगाल की जनता आपको राजनीतिक शरणार्थी बनाने वाली है। सीएए का विरोध आपको बहुत महंगा पड़ेगा। 

यह खबर भी पढ़े: Coronavirus India Updates: पिछले 24 घंटे में कोरोना से 4,785 लोग हुए ठीक, संक्रमितों का आंकड़ा 2.66 लाख के पार

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended