संजीवनी टुडे

VIDEO : अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को ले कर अमेरिका में भारी उत्साह

संजीवनी टुडे 05-08-2020 21:55:50

अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन को लेकर अमेरिका के प्रवासी भारतीयों में भारी उत्साह है।


लॉस एंजेल्स। अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन को लेकर अमेरिका के प्रवासी भारतीयों में भारी उत्साह है। मंगलवार की रात (भारत में सुबह) प्रवासी भारतीयों ने अपने-अपने घरों में घी के दीपक जलाए और वर्चुएल भजन संध्या में भाग लिया। इससे पूर्व अमेरिका और कनाडा में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रचारक सौमित्र गोखले ने एक ‘वर्चुएल’ सम्बोधन में राम मंदिर निर्माण में भूमि पूजन को देश के गौरव और राष्ट्र के स्वाभिमान का प्रतीक बताया। उन्होंने कहा कि दुनिया में भारत का प्रतिनिधित्व मर्यादा पुरुषोतम राम करते हैं, बाबर नहीं। 

राम मंदिर निर्माण में छात्र जीवन से सतत जुड़े रहे गोखले ने एक घंटे के संबोधन में कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए पिछले 500 वर्षों से राम भक्तों ने सतत संघर्ष किया है। इस संदर्भ में उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण आंदोलन से जुड़ी परत दर परत घटनाओं के संदर्भ में साक्ष्यों के साथ एक सचित्र झाँकी भी प्रस्तुत की। उन्होंने कहा कि इस आंदोलन में राम भक्त जब-जब अयोध्या गए हैं, उन्होंने वहाँ विराजमान रामलला से एक ही शपथ ली है कि ‘रामलला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे।’ इस मार्ग में साम्यवादी और मुस्लिम समुदाय के कुछ लोगों ने बीच-बीच में व्यवधान खड़े किए लेकिन सुप्रीम कोर्ट के एतिहासिक फ़ैसले के बाद अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मार्ग साफ़ हो गया। उन्होंने कहा कि राम राष्ट्रीय स्वाभिमान के प्रतीक हैं, सभी धर्मों, जाति और समाज से ऊपर हैं। उन्होंने राम मंदिर निर्माण आंदोलन में विश्व हिंदू परिषद के दिवंगत नेता अशोक सिंगल और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रचारक मोरोपंत पिंगले के योगदान के बारे में विशेष उल्लेख किया।

एक सवाल के जवाब में सौमित्र गोखले ने राम मंदिर निर्माण आंदोलन और पूणे से अपने छात्र जीवन से जुड़ी घटनाओं के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि देश भर में चलाया गया राम मंदिर आंदोलन आज़ादी के आंदोलन से काम नहीं रहा। उसे भुलाना संभव ही नहीं है। उन्होंने कहा कि जिस समय देश में अयोध्या चलो आंदोलन (6 दिसंबर 1990) चल रहा था, राम भक्तों को रोकने के लिए मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में पुलिस ने व्यापक बंदोबस्त किए हुए थे। इसके बावजूद विभिन्न प्रदेशों की तरह महाराष्ट्र से भी हज़ारों पुरुषों और महिलाओं ने आंदोलन में भाग लिया। वे सरकारी रुकावटों के बावजूद पैदल ही अयोध्या के लिए कूच करने लगे। इन हज़ारों लोगों के मार्च में ऐसी कितनी ही महिलाएं थीं, जो रास्ते के लिए खाना बनाकर लाई थीं। वे मार्ग में अपने सह यात्रियों से भोजन के लिए कहती थीं। वे मनुहार करती थीं कि उन्होंने भोजन अपने हाथों से बनाया है।

इस मार्च में एक घटना की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि रास्ते में गोमती नदी पार करने के लिए एक नाविक ने अपनी नाव से 55 हज़ार लोगों को नदी पार कराया था, जो अद्भुत घटना है। इस पर भी, उस नाविक ने किसी रामभक्त से नदी पार करने का एक रुपये नहीं लिया। 

इस आंदोलन में विश्व हिंदू परिषद के अध्यक्ष अशोक सिंघल से सम्पर्क के बारे में पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में सौमित्र गोखले ने बताया कि अशोक सिंघल ने आंदोलन में छात्रों और युवाओं की भूमिका की हमेशा सराहना की थी। लेकिन उन्होंने छात्रों की शिक्षा को कभी नज़रंदाज नहीं किया। उन्होंने कहा कि वह पूणे में इंजीनियरिंग के प्रथम वर्ष में थे। परीक्षाएँ समीप थीं। वे कालेज के अन्यान्य छात्रों के साथ कार सेवा में हिस्सा लेना चाहते थे। इसके लिए कालेज प्रांगण में दो हज़ार छात्र जुटे थे। इस कार्यक्रम में अशेाक सिंघल अचानक पहुँचे थे। उन्होंने छात्रों के जज़्बे की सराहना की, लेकिन साथ में यह भी कहा था, ‘’लड़ाई और पढ़ाई’’ में से छात्रों को पहले पढ़ाई ही चुननी चाहिए।’’

यह खबर भी पढ़े: अयोध्या में राममंदिर निर्माण के भूमि पूजन कार्यक्रम को लेकर कांग्रेस के कई नेता जता चुके खुशी

यह खबर भी पढ़े: राहुल गांधी ने मर्यादा पुरुषोत्तम राम को बताया सर्वोत्तम मानवीय गुणों का स्वरूप

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended