संजीवनी टुडे

उन्नाव केस: राजधानी में प्रदर्शनकारियों में जबरदस्त आक्रोश, वाटर कैनन से 3 बेहोश, भारी जाब्ता तैनात

संजीवनी टुडे 07-12-2019 20:57:01

देश में हुई गैंगरेप की घटनाओं से देशवासियों में काफी आक्रोश हैं। जगह-जगह कैंडल मार्च और विरोध-प्रदर्शन देखने को मिल रहा हैं। लोगों की मांग हैं की जघन्य अपराधियों के खिलाफ कठोर कानून बनाये जाए। हा


नई दिल्ली। देश में हुई गैंगरेप की घटनाओं से देशवासियों में काफी आक्रोश हैं। जगह-जगह कैंडल मार्च और विरोध-प्रदर्शन देखने को मिल रहा हैं। लोगों की मांग हैं की जघन्य अपराधियों के खिलाफ कठोर कानून बनाये जाए। हाल ही हैदराबाद में हुई घटना के बाद व्यापक स्तर पर लोगों ने विरोध-प्रदर्शन किया। वही दूसरी और उन्नाव की दुष्कर्म पीड़िता सफदरजंग अस्पताल में जिंदगी के लिए करीब 44 घंटे तक जूझी, लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका। हालांकि वह जान बचान के लिए एक किलोमीटर दूर तक दौड़ती रही और फिर किसी तरह उसे लखनऊ अस्पताल पहुंचाया गया जहां उसे दिल्ली के लिए रेफर किया गया था। '

यह खबर भी पढ़ें:​ राजस्थान/ पुरे देश में प्याज ने निकाले आंसू, लेकिन इस जिले के किसानों में महंगे प्याज से खुशी की लहर, हुई बल्ले-बल्ले

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बारे में जानकारी देते हुए सफदरजंग अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर सुनील गुप्ता ने बताया, 'पीड़िता के पोस्टमार्टम के दौरान उसके शरीर में जहर और दम घुटने का कोई संकेत नहीं मिला। इस घटना के बाद राजधानी दिल्ली में युवतियों और महिलाओं का सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। भारी भीड़ को देखते हुए जाब्ता तैनात किया गया। जानकारी के मुताबिक़ भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने वाटर कैनन का इस्तेमाल किया तो प्रदर्शनकारी महिलाओं में नोंक-झोंक हुई और 3 महिलाएं घायल हो गई। महिलाओं पर वाटर कैनन के इस्तेमाल के बाद पुलिस और प्रदर्शनकारियों में भिड़ंत हो गई। 

यह खबर भी पढ़ें:​ B special : जब धर्मेन्द्र को लगा....... मुंबई में रहने से अच्छा है गांव लौट जाऐं

गौरतलब है कि पिछले गुरूवार को मुकदमे की पैरवी के सिलसिले में रायबरेली जाने के लिये भोर पहर घर से निकली पीडिता को रास्‍ते में आरोपियों ने जलाकर मारने की कोशिश की थी। आरोपियों के चंगुल से छूटते ही वह जलती हुई घटनास्‍थल से करीब 1800 मीटर तक बचाने की गुहार लगाते हुए भागी थी। बाद में पुलिस ने स्‍थानीय सुमेरपुर अस्‍पताल में भर्ती कराया था जहां उसने आरोपियों के नाम अपने बयान में सार्वजनिक किये थे। यहां से उसे जिला अस्‍पताल और फिर ट्रामा सेन्‍टर भेजा गया था। बाद में उसे एयर लिफट कर दिल्‍ली बेहतर इलाज के लिए ले जाया गया था। जहां उसने बीती रात साढे ग्‍यारह बजे के करीब अंतिम सांस ली। पुलिस ने सभी पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। 

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended