संजीवनी टुडे

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कक्षा 9 से 10 वीं कक्षाओं के लिए शैक्षणिक कैलेंडर किया जारी

संजीवनी टुडे 16-09-2020 06:18:00

केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने माध्यमिक स्तर (कक्षा 9 से 10) की कक्षाओं के लिए अब आठ सप्ताह का वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर (एएसी) जारी किया है।


नई दिल्ली। केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने मंगलवार को माध्यमिक स्तर (कक्षा 9 से 10) की कक्षाओं के लिए अब आठ सप्ताह का वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर (एएसी) जारी किया है। प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्तर के लिए 12 सप्ताह का वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर और माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्तर के लिए 4 सप्ताह का एएसी पहले ही जारी किए जा चुके हैं। अब यह अगले आठ सप्ताहों के लिए माध्यमिक स्तर के विद्यार्थियों के लिए अकादमिक कैलेंडर का दूसरा भाग है।

कोविड-19 के कारण घर पर रहने के दौरान छात्रों को सार्थक रूप से शैक्षिक गतिविधियों से जोड़े रखने के लिए शैक्षणिक कैलेंडर बनाया गया है। प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्तर पर छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों के लिए वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर एनसीईआरटी द्वारा एमएचआरडी के मार्गदर्शन में विकसित किए गए हैं। 

इस अवसर पर निशंक ने कहा कि कैलेंडर का उद्देश्य हमारे छात्रों, शिक्षकों, स्कूल के प्राचार्यों और अभिभावकों को कोविड-19 संकट के दौरान घर पर रहकर ऑन-लाइन शिक्षण संसाधनों का उपयोग करने के लिए सशक्त बनाना है। छात्र स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के अपने सीखने के परिणामों में सुधार करेंगे। उन्होंने कहा कि कैलेंडर शिक्षकों को विभिन्न तकनीकी उपकरणों और सोशल मीडिया टूल्स का उपयोग करने के लिए दिशा-निर्देश देता है, जो मज़ेदार, दिलचस्प तरीकों से शिक्षा प्रदान करने के लिए उपलब्ध हैं, जिनका उपयोग शिक्षार्थी, माता-पिता और शिक्षक घर पर भी कर सकते हैं। 

निशंक ने कहा कि इसमें मोबाइल फोन, रेडियो, टेलीविजन, एसएमएस और विभिन्न सोशल मीडिया उपकरणों तक पहुंच के विभिन्न स्तरों को ध्यान में रखा गया है। बहुत से लोगों के पास मोबाइल फोन में इंटरनेट की सुविधा नहीं है, या वे विभिन्न सोशल मीडिया टूल्स- जैसे व्हाट्स ऐप, फेसबुक, ट्विटर, गूगल आदि का उपयोग नहीं कर सकते हैं। ऐसे में कैलेंडर शिक्षकों को मोबाइल फोन पर या वॉयस कॉल के माध्यम से माता-पिता और छात्रों को एसएमएस भेजकर शिक्षा प्रदान कराने के दिशानिर्देश देता है। इस कैलेंडर को लागू करने के लिए माता-पिता से प्राथमिक स्तर के छात्रों की मदद करने की अपेक्षा की जाती है।

यह खबर भी पढ़े: अमेरिकी टेक कंपनी ओरेकल ने 'टिक टोक' ऐप के साथ की साझेदारी, युवाओं में ख़ासा उत्साह

यह खबर भी पढ़े: अमेरिका ने दिया चीन को एक और झटका, अपने पोर्ट पर रोका अरबों का सामान

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended