संजीवनी टुडे

तुमकुरु : नारियल उत्पादक क्षेत्र में आसान नहीं है लोकसभा का सियासी दंगल मनोहर यडवट्टि

संजीवनी टुडे 12-01-2019 21:40:13


बेंगलुरु। 'कल्पतरु नाडु' के नाम से मशहूर तुमकूरु सीट पर लोकसभा का चुनावी दंगल आमतौर पर अपने दिलचस्प परिणामों के लिए जाना जाता है। 2014 के मोदी लहर में भाजपा प्रत्याशी की हार ऐसे ही चौंकाने वाले परिणामों की बानगी है।

जबकि 2004 और 2009 में यहां से भाजपा प्रत्याशियों की जीत हुई थी। 1996 के लोकसभा चुनाव नतीजों को छोड़ दें तो यहां कांग्रेस और भाजपा की हार हर किसी के लिए अचंभे से कम नहीं थी। कांग्रेस के मुददेहनुमेगौड़ा ने 4,29,868 वोट लेकर भाजपा के जीएस बसवराज (3,55,827 वोट) को हराया। जेडीएस उम्मीदवार ए कृष्णप्पा 58,683 वोट हासिल कर तीसरे स्थान पर रहे। 

गठबंधन सरकार में तीन मंत्री जिले का प्रतिनिधित्व करते हैं, जिनमें डॉ. जी परमेश्वर उप मुख्यमंत्री हैं और गुब्बी के एसआर श्रीनिवास और पवागडा के वेंकटरामनप्पा जेडीएस का प्रतिनिधित्व करते हैं।

जेडीएस इस बार के लोकसभा चुनावों में 12 सीटों के लिए दबाव बना रहा है। पूर्व प्रधानमंत्री और जेडीएस सुप्रीमो एचडी देवेगौड़ा ने दावा किया है उनकी पार्टी छोटी है और निश्चित सीटों में कोई सौदेबाजी करने की स्थिति में नहीं हैं। इसके बावजूद उनकी दावेदारी कमजोर नहीं है।

उधर, पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के साथ अपने संबंधों के कारण जीएस बसवराज फिर से भाजपा के टिकट की उम्मीद लगाए हुए हैं। 

भाजपा के पूर्व मंत्री और बीएस येदियुरप्पा के साथ चार बार विधायक की शपथ ले चुके विधायक शोगादु शिवन्ना भी टिकट की होड़ में हैं जबकि पराजित सुरेशगौड़ा भी टिकट की कोशिश में हैं। फिलहाल इस सीट पर भाजपा के लिए लड़ाई आसान नहीं होने जा रही है क्योंकि इसबार उसका मुकाबला कांग्रेस- जेडीएस की संगठित ताकत से होगा।

More From national

Loading...
Trending Now