संजीवनी टुडे

तुष्टीकरण की राजनीति से देश का हुआ बहुत नुकसान : शाह

इनपुट-यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 18-08-2019 20:25:17

केंद्रीय गृह मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने तुष्टीकरण की सतत राजनीति के लिए....


नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने तुष्टीकरण की सतत राजनीति के लिए कांग्रेस एवं अन्य विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए रविवार को कहा कि इसके कारण वोट बैंक की राजनीति को बल मिला है और राष्ट्र का बहुत नुकसान हुआ है।  शाह ने तीन तलाक के मुद्दे पर यहां आयोजित एक व्याख्यान में कहा, “कुछ राजनीतिक दलों ने तलाक-ए-बिद्दत (तीन तलाक) निषेध कानून बनाने में लगातार रोड़े अटकाये। इसकी मुख्य वजह तुष्टीकरण की राजनीति थी। तुष्टीकरण की राजनीति धीरे-धीरे वोट बैंक तैयार करने का औजार बन गया। तीन तलाक तो बस एक उदाहरण है। वोट बैंक की नीतियों ने देश को कई तरीकों से नुकसान पहुंचाया है।”

यह खबर भी पढ़ें: पांच वर्षों में मध्यप्रदेश को बदल देंगे - कमलनाथ

उन्होंने कहा, “वोट बैंक की राजनीति ने दशकों से राष्ट्र को नुकसान पहुंचाया है और समावेशी विकास के रास्ते में बाधा पहुंचायी है।” केंद्रीय मंत्री ने कहा कि शाह बानो मामला अस्सी के दशक में सामने आया था, लेकिन तत्कालीन राजीव गांधी सरकार ने तीन तलाक के खिलाफ कदम उठाने के वास्ते संकल्प शक्ति और राजनीतिक इच्छाशक्ति का परिचय नहीं दिया। उन्होंने कहा, “लेकिन अब स्थिति बदल गयी है। अब भारतीय जनता पार्टी की सरकार है, जिसने कानून बनाया है।” शाह ने सामाजिक बुराइयों और कुप्रथाओं को लेकर न्यायाधीशों के आदेश का हवाला देते हुए कहा कि जब कुरान में तीन तलाक पाप है तो इसे क्यों (शरीयत) कानूनी माना जाये?

उन्होंने कहा कि इस्लामिक राष्ट्रों सहित दुनिया के कम से कम 19 देशों ने तीन तलाक को साठ के दशक में ही प्रतिबंधित कर दिया था, लेकिन तुष्टीकरण की राजनीति के कारण ही भारत में इसके खिलाफ कोई कदम नहीं उठाया गया। उन्होंने कहा कि गरीबी और पिछड़ेपन का कोई धार्मिक रंग नहीं होता तथा इनसे लड़ने के लिए तुष्टीकरण की राजनीति की आवश्यकता नहीं है। शाह ने कहा, “लेकिन यह कांग्रेस पार्टी ही थी, जिसने साठ के दशक में तुष्टीकरण की राजनीति शुरू की थी, और बाद में कई अन्य दलों ने यही रास्ता अपनाया। इसने भारत में सामान्य जनजीवन प्रभावित किया है। इसने हमारे लोकतंत्र को प्रभावित किया है। इसलिए इस तरह की तुष्टीकरण की राजनीति से लड़ने के लिए एकजुट प्रयास की आवश्यकता है।”

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब चैनल

उन्होंने आगे कहा कि 2014 में प्रधानमंत्री के तौर पर नरेन्द्र मोदी का चयन तुष्टीकरण की राजनीति के अंत का आरम्भ था और 2019 के जनादेश ने इसे सदा के लिए समाप्त करने की दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि तीन तलाक को अपराध बनाया जाना केवल मुस्लिम महिलाओं के लिए लाभदायक होगा। इससे हिन्दू, जैन अथवा ईसाई समुदायों का कोई लेनादेना नहीं है। उन्होंने कहा कि तीन तलाक को समाप्त करने के साथ ही मोदी एक समाज सुधारक के रूप में याद किये जायेंगे और इस कुरीतियों के खात्मे से संबंधित समाज सुधार देश के लिए क्रांतिकारी साबित होगा।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended