संजीवनी टुडे

गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात करना अपराध नहीं- केरल हाईकोर्ट

संजीवनी टुडे 18-05-2018 10:09:29


नई दिल्ली। गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात करना अपराध की श्रेणी में नहीं आता है। इस मामले में केरल हाईकोर्ट ने कहा कि यह तब तक गैरकानूनी नहीं है। जब तक ड्राइव की वजह से पब्‍लि‍क सेफ्टी को कोई संकट नहीं होता। गाड़ी चलाते समय मोबाइल फोन पर बात करना मोटर वाहन अधिनियम के सेक्शन 118 (ई) में अपराध है। हालांकि कोर्ट ने कोई भी जुर्माना न लगाते हुए केस को खत्‍म कर दि‍या।


अभियोजन ने बताया कि याचिकाकर्ता पिछले साल अप्रैल की शाम को गाड़ी चलाते हुए फोन पर बात कर रहा था। तभी उन्हे पकड़ लिया था। कोर्ट ने पुलिस से कहा कि कार्रवाई तभी कर सकता है जब किसी शख्स द्वारा फोन पर बात करने से लोगों की जिंदगी पर खतरा मंडराता हो। राज्य पुलिस के कानून में अभी तक ड्राइवर को फोन पर बात करने से रोकने के लिए कोई कानून नहीं बना है।


यह बात केरल हाईकोर्ट ने एक मामले की सुनवाई के दौरान कहा। हाईकोर्ट की डिविजन बेंच के जस्टिस एएम शफीक और जस्टिस पी सोमराजन ने यह बात भी मानी कि गाड़ी चलाते वक्त मोबाइल पर बात करने से एक्सीडेंट होते हैं। और लोगों की जान खतरे में पड़ जाती है अभी ट्रैफिक पुलिस मोटर व्हीकल एक्ट की धारा 184 के तहत ऐसे में कार्रवाई करती है। धारा 184 खतरनाक तरीके से वाहन चलाने को लेकर लागू होती है।

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.40 लाख में call: 09314166166

MUST WATCH

मोटर व्हीकल एक्ट में शराब पीकर गाड़ी चलाने पर पाबंदी है। लेकिन इसमें भी शराब की मात्रा तय है यदि 100 एमएल से ज्यादा शराब पी गई है। तभी पुलिस कार्रवाई कर सकती है कार्रवाई से पहले पुलिस को जांच करके यह देखना होगा। अल्होकल की मात्रा 100 एमएल से ज्यादा है। उसमें 400 रुपए की पेनल्टी और 6 माह तक की सजा तक का प्रावधान है। 

sanjeevni app

More From national

Trending Now
Recommended