संजीवनी टुडे

नेपाली युवती गैंगरेप व हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट का सात दोषियों को लेकर लिया बड़ा फैसला

संजीवनी टुडे 04-07-2019 21:40:31

नेपाली युवती गैंगरेप व हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को सात दोषियों की फांसी की सजा पर रोक लगाई है।


रोहतक। नेपाली युवती गैंगरेप व हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को सात दोषियों की फांसी की सजा पर रोक लगाई है। इस मामले में दिसंबर 2015 में सत्र न्यायाधीश की अदालत ने फांसी की सजा सुनाई थी, जोकि हाईकोर्ट ने भी बरकरार रखी थी। जघन्य हत्याकांड को लेकर उस वक्त काफी बबाल हुआ था। उसके बाद से पीडि़त के परिजनों के बारे में भी कोई जानकारी नहीं है। हालांकि उनके नजदीकी रोहतक रह रहे है, लेकिन उन्हे फैसले के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है। 

पुलिस के अनुसार एक फरवरी 2015 की दोपहर को रोहतक की चिन्योट कॉलोनी स्थित अपनी बहन के घर से निकली थी। पैदल चलते-चलते वह हिसार बाइपास पर पहुंच गई। वहां चाय की दुकान पर काम करने वाले नेपाली युवक संतोष पर उसकी नजर पड़ गयी। युवती से बातचीत के दौरान संतोष को उसके मंदबुद्धि होने का पता चल गया। इस पर संतोष ने अपनी जान-पहचान के युवकों को इस बारे में बताया और उन्हें मौके पर बुला लिया। आरोपी युवती को बहु अकबरपुर के खेत में ले गए और उसके साथ गैंगरेप किया। वारदात को छुपाने के लिए उन्होंने युवती की निर्ममता से हत्या कर दी। 4 फरवरी को पुलिस को खेतों से उसका शव नग्र हालत में मिला। संतोष गद्दी खेड़ी गांव में किराये पर रहता था और वारदात के बाद से वह दुकान पर नहीं आया। दूसरे आरोपी भी इधर-उधर हो गए। 

पुलिस की अपराध जांच शाखा को गुप्त सूचना मिली कि आरोपियों के तार गांव गद्दी खेड़ी से जुड़े हो सकते हैं और इसी आधार पर पुलिस ने इस हत्याकांड के मुख्य आरोपी नाबालिग सहित आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया था, जबकि नौवें आरोपी सोमबीर ने दिल्ली में जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी। इस मामले में 21 दिसंबर 2015 को जिला सत्र न्यायाधीश की अदालत ने गांव गद्दी खेड़ी निवासी राजेश उर्फ घुचडू, सुनील उर्फ शीला, सारवर उर्फ बिल्लू, मनबीर, सुनील उर्फ माधा, पवन व प्रमोद उर्फ पदम को फांसी की सजा सुनाई थी, जोकि हाईकोर्ट ने बरकरार रखी थी। इस मामले में दालत के आदेश पर एडवोकेट डॉ. दीपक भारद्वाज को दोषियों की तरफ से पैरवी के लिए नियुक्त किया गया था। एडवोकेट डॉ. दीपक भारद्वाज ने बताया कि गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने अर्जी को स्वीकार करते हुए फांसी की सजा पर रोक लगाई है। 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 4300/- गज, अजमेर रोड (NH-8) जयपुर में 7230012256

More From national

Trending Now
Recommended