संजीवनी टुडे

सचिन पायलट को भी वैभव की हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए- अशोक गहलोत

संजीवनी टुडे 04-06-2019 08:58:24

राजस्थान की जोधपुर सीट से राजस्थान सीएम अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत को गजेंद्र सिंह शेखावत ने चार लाख मतों के अंतर से हराया। इतना ही नहीं वैभव अपने पिता अशोक की विधानसभा सीट सारदापुरा से भी 19,000 वोट से पीछे थे।


जयपुर। राजस्थान में लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस को मिली करारी हार के बाद अशोक गहलोत ने कहा कि पार्टी प्रदेश कमिटी के चीफ और सरकार में उनके डेप्युटी सचिन पायलट को उनके बेटे वैभव गहलोत की जोधपुर से हार की भी जिम्मेदारी लेनी चाहिए। टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ बातचीत में सचिन पायलट ने इस पर कोई कमेंट करने से इनकार कर दिया, लेकिन गहलोत के इस बयान पर आश्चर्य जताया। 

टीवी न्यूज चैनल एबीपी के साथ इंटरव्यू में गहलोत से पूछा गया कि क्या यह सच है कि जोधपुर से आपके बेटे का नाम पायलट ने ही सुझाया था? गहलोत ने कहा, 'यदि पायलट ने ऐसा किया था तो यह अच्छी बात है। यह हम दोनों के बीच मतभेद की खबरों को खारिज करती है।' 

उन्होंने कहा, 'पायलट साहब ने यह भी कहा था कि वह बड़े अंतर से जीतेगा, क्योंकि हमारे वहां 6 विधायक हैं, और हमारा चुनाव अभियान बढ़िया था। तो मुझे लगता है कि उन्हें वैभव की हार की जिम्मेदारी तो लेनी चाहिए। जोधपुर में पार्टी की हार का पूरा पोस्टमॉर्टम होगा कि हम वह सीट क्यों नहीं जीत सके।' 

राजस्थान सीएम से जब पूछा गया कि क्या उन्हें वाकई लगता है कि पायलट को हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए? उन्होंने कहा, 'हम जोधपुर जीत रहे थे (जोधपुर से), इसलिए उन्होंने जोधपुर से टिकट लिया। लेकिन हम सभी 25 सीट हार गए। इसलिए यदि कोई कहता है कि सीएम या पीसीसी चीफ को इसकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए। मेरा मानना है कि यह एक सामूहिक जिम्मेदारी है।' 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

आपको बतादे की राजस्थान सीएम अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत को केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने करीब 4 लाख वोटों के अंतर से हराया है। यहां तक कि गहलोत की विधानसभा सीट सारदापुरा से भी वैभव 19000 वोटों से पीछे रहे। जबकि गहलोत 1998 से वहां से जीतते आ रहे हैं। 

मात्र 220000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314188188

More From national

Trending Now
Recommended