संजीवनी टुडे

राजीव को दोहरा झटका : राज्य की अदालत ने भी नहीं दी अग्रिम जमानत

संजीवनी टुडे 24-05-2019 22:35:52


कोलकाता। अरबों रुपये के सारदा चिटफंड घोटाला मामले में साक्ष्यों को मिटाने के आरोपित कोलकाता पुलिस के पूर्व आयुक्त राजीव कुमार को शुक्रवार दोहरा झटका लगा है। एक तरफ सुप्रीम कोर्ट ने उनकी जमानत की अवधि बढ़ाने की अर्जी खारिज कर दी थी तो दूसरी तरफ उन्होंने दोपहर बाद उत्तर 24 परगना की बारासात में स्थित सीबीआई की विशेष अदालत में अग्रिम जमानत याचिका लगाई थी। उस न्यायालय ने उनकी जमानत याचिका भी खारिज कर उन्हें गिरफ्तारी से राहत देने से इनकार कर दिया है। सरकारी वकील सुशोभन मित्रा ने बताया कि कुमार के वकीलों ने निचली अदालत में शाम चार बजे के आसपास एक दोषपूर्ण अर्जी दाखिल की थी, जिसे ठुकरा दिया गया। बाद में उन्होंने दस्तावेजों के गायब होने की बात कही थी। 

यही वजह है कि कोर्ट ने उनकी याचिका खारिज कर दी। इससे पहले गिरफ्तारी से राहत बढ़ाने की मांग करने वाली उनकी याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को खारिज कर दिया था। इसके बाद जस्टिस अरुण मिश्रा की अवकाशकालीन पीठ ने कुमार के वकील सुनील फर्नांडिस से कहा कि वह राहत पाने के लिए निचली अदालत या कलकत्ता हाईकोर्ट का रुख कर सकते हैं। फर्नांडिस ने इस दौरान कोर्ट से कहा कि वकीलों के हड़ताल के कारण अदालतें काम नहीं कर रही हैं। इस पर कोर्ट ने कहा, 'आप गलत हैं। अदालतें वहां काम कर रही हैं। सभी न्यायाधीश अदालतों में हैं और वे मामला सुन रहे हैं।' उन्होंने आगे कहा कि आपके मुवक्किल पूर्व पुलिस आयुक्त हैं और वह कई युवा अधिवक्ताओं से कानून को बेहतर जानते हैं। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब चैनल

वह स्वयं वहां अदालतों में जा सकते हैं। इसके बाद राजीव कुमार ने बारासात की स्पेशल सीबीआई कोर्ट में याचिका लगाई थी जहां से उन्हें किसी तरह की कोई राहत नहीं मिली है। इधर सीबीआई की ओर से स्पष्ट कर दिया गया है कि राजीव कुमार से पूछताछ करने की कानूनी प्रक्रिया शुरू की गई है। 

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended