संजीवनी टुडे

रेलवे ने किसानों के ‘रेल रोको’ आंदोलन को लेकर दिया बड़ा बयान, कहा- इससे खाद्यान्न की आपूर्ति बुरी तरह होगी प्रभावित

संजीवनी टुडे 24-09-2020 21:10:39

रेलवे ने किसानों के ‘रेल रोको’ आंदोलन को कोविड-19 महामारी के दौर में देश की अर्थव्यवस्था और रेल फ्रेट के लिए बड़ा धक्का बताया है।


नई दिल्ली। रेलवे ने किसानों के ‘रेल रोको’ आंदोलन को कोविड-19 महामारी के दौर में देश की अर्थव्यवस्था और रेल फ्रेट के लिए बड़ा धक्का बताया है। रेलवे का कहना है कि इससे जरूरी सामान और खाद्यान्न की आपूर्ति बुरी तरह प्रभावित होगी। इतना ही नहीं विशेष रेलगाड़ियों के माध्यम से जरूरी यात्रा करने वाले यात्रियों को भी खासी कठिनाई होगी।

मोदी सरकार के दो कृषि संबंधी विधेयकों के खिलाफ गुरुवार को पंजाब में किसानों ने तीन दिवसीय ‘रेल रोको’ आंदोलन शुरू कर दिया है। अमृतसर और फिरोजपुर में किसान रेलवे ट्रैक पर ही धरने पर बैठ गए हैं। ऐसे में दिल्ली की ओर आने-जाने वाली मालगाड़ियों और विशेष रेलगाड़ियों का परिचालन प्रभावित हो गया है। फिरोजपुर रेलवे डिवीजन ने आंदोलन के कारण 24 से 26 सितम्बर तक विशेष ट्रेनों का परिचालन पूरी तरह या आंशिक रूप से रद्द कर दिया है। कई मालगाड़ियों और पार्सल गाड़ियों का भी समय बदला गया है।

राज्यसभा ने “कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक, 2020’’ तथा “कृषक (सशक्ति्करण व संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक, 2020’’  को 20 सितम्बर को ध्वनि मत से पारित कर दिया। लोकसभा दोनों कृषि विधेयकों को पहले ही पारित कर चुकी है। अब इन विधेयकों को कानून बनने के लिए राष्ट्रपति की मंजूरी का इंतजार है।

आंदोलन के कारण रेल परिचालन बाधित होने पर रेलवे के प्रवक्ता ने कहा कि पंजाब ने इस साल अगस्त में भारतीय खाद्यान निगत (एफसीआई) के 990  रेक और 23  सितम्बर तक 816 रेक का लदान किया। इस प्रकार,  एफसीआई पंजाब से रोजाना 35 से अधिक रेक अनाज ले रही है। उन्होंने कहा कि पंजाब में कंटेनरों में उर्वरक, सीमेंट, ऑटो, मिश्रित माल की रोजाना 9-10 रेक लोड होती है। राज्य को प्रतिदिन लगभग 20 रेक कोयला, खाद्यान्न, कृषि उत्पाद, मशीनरी पेट्रोलियम उत्पाद, आयातित उर्वरक आदि प्राप्त होते हैं।

प्रवक्ता ने कहा, पंजाब रेल आंदोलन खाद्यान्न और अन्य आवश्यक सामानों की लोडिंग को बुरी तरह प्रभावित करेगा। यह आम नागरिकों और रेल फ्रेट और अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाएगा। रेलवे अधिकारी के अनुसार, अमृतसर-हरिद्वार रेलगाड़ी 25 से 26  सितम्बर और नई दिल्ली-जम्मू तवी एक्सप्रेस 24  से 26 सितंबर तक रद्द रहेगी। हजूर साहिब नांदेड़-अमृतसर ट्रेन अमृतसर नहीं जाएगी और पुरानी दिल्ली में अपनी यात्रा समाप्त करेगी। वहीं ट्रेन संख्या 02716 25 और 26  सितम्बर को अमृतसर के बजाये पुरानी दिल्ली से चलेगी।

धनबाद-फिरोजपुर कैंट ट्रेन फिरोजपुर कैंट नहीं जाएगी और अंबाला कैंट पर अपनी यात्रा समाप्त करेगी। ट्रेन संख्या 03308 फिरोज़पुर कैंट के बजाये अंबाला कैंट से 24 से 26 सितम्बर को चलेगी। 24  सितम्बर को आने वाली मुंबई सेंट्रल-अमृतसर ट्रेन को लुधियाना लाया जाएगा और यह 25 से 26 सितम्बर तक अंबाला में अपनी यात्रा समाप्त करेगी। ट्रेन संख्या 02904  अमृतसर के बजाये 24 से 26 सितम्बर तक अंबाला से चलेगी। 20 ट्रेनों को आंशिक रूप से रद्द किया गया है जबकि पांच का रूट छोटा कर दिया गया है।

यह खबर भी पढ़े: कृषि बिल के खिलाफ पंजाब में किसानों का 'रेल रोको' आंदोलन हुआ तेज, 14 ट्रेनें कैंसल

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended