संजीवनी टुडे

काचेगुडा रेल दुर्घटना को लेकर रेल मंत्रालय ने दिए उच्चस्तरीय जांच के आदेश

संजीवनी टुडे 11-11-2019 21:30:41

दक्षिण मध्य रेलवे के अंतर्गत काचेगुडा में दो यात्री गाड़ियों में आमने सामने से हुई टक्कर को रेल मंत्रालय ने अत्यंत गंभीरता से लिया है और संरक्षा आयुक्त द्वारा जांच के आदेश के साथ साथ रेलवे बोर्ड के सदस्य सहित तीन शीर्ष अधिकारियों को दुर्घटनास्थल पर भेजने के निर्देश दिये हैं।


नई दिल्ली। दक्षिण मध्य रेलवे के अंतर्गत काचेगुडा में दो यात्री गाड़ियों में आमने सामने से हुई टक्कर को रेल मंत्रालय ने अत्यंत गंभीरता से लिया है और संरक्षा आयुक्त द्वारा जांच के आदेश के साथ साथ रेलवे बोर्ड के सदस्य सहित तीन शीर्ष अधिकारियों को दुर्घटनास्थल पर भेजने के निर्देश दिये हैं। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार सिकंदराबाद स्थित दक्षिण मध्य क्षेत्र के रेल संरक्षा आयुक्त रामकृपाल द्वारा आज हुई इस दुर्घटना की जांच के आदेश दिये गये हैं।

यह भी पढ़े: उत्तर प्रदेश विभाजन के सुर एक बार फिर सुनाई दे रहे हैं, किसने और क्यों उठाई ये मांग?

रेल मंत्रालय ने इस दुर्घटना को अत्यंत गंभीरता से लिया है, इसलिए रेलवे बाेर्ड के सदस्य (ट्रैक्शन) राजेश तिवारी, अतिरिक्त सदस्य (सिगनल एवं टेलीकॉम) और कार्यकारी निदेशक (संरक्षा) दुर्घटनास्थल का दौरा करेंगे। सूत्रों ने यह भी बताया कि दुर्घटना में किसी की मौत नहीं हुई है। मामूली रूप से घायल यात्रियों को पांच हजार रुपए तथा गंभीर रूप से घायलों को 25 हजार रुपए की अनुग्रह राशि दी जाएगी। एक लोकल ट्रेन एवं एक एक्सप्रेस की आमने-सामने की टक्कर में दोनों गाड़ियों के सात कोच पटरी से उतर गये तथा कम से कम 13 लोग घायल हुए हैं।

दक्षिण मध्य रेलवे के सूत्रों के अनुसार दक्षिण मध्य रेलवे के हैदराबाद मंडल के अंतर्गत सोमवार को सिकंदराबाद-फलकनुमा सेक्शन पर काचेगुडा स्टेशन पर सुबह 10 बजकर 40 मिनट पर 17028 अप कुर्नूल सिटी-सिकंदराबाद हुंड्री एक्सप्रेस आ रही थी। तभी 47178 सिकंदराबाद-फलकनुमा एमएमटीएस लोकल सामने से उसी पटरी पर आ गयी और दोनों गाड़ियों की भिड़ंत हो गयी। दुर्घटना में हुंड्री एक्सप्रेस के चार कोच और एमएमटीएस के तीन कोच पटरी से उतर गये।

सूत्रों ने बताया कि इसमें एमएमटीएस के मोटरमैन (ड्राइवर) समेत तीन लोग घायल हो गये। इस दुर्घटना में मोटरमैन के पैरों में गंभीर चोटें आयीं हैं जबकि 12 यात्री भी घायल हुए हैं जिन्हें उस्मानिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दो यात्रियों को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गयी है।सूत्रों के अनुसार आरंभिक जानकारी से पता चला है कि एमएमटीएस के मोटरमैन ने बिना सिगनल के ही गाड़ी को बढ़ा दिया था लेकिन स्टेशन यार्ड होने के कारण दोनों गाड़ियों की गति धीमी थी, इसलिए ज़्यादा नुकसान नहीं हुआ। सूत्रों के अनुसार अतिरिक्त महाप्रबंधक बी. बी. सिंह समेत रेलवे के उच्चाधिकारी मौके पर पहुंच गये थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended