संजीवनी टुडे

निजीकरण से मेट्रो कर्मचारियों के शोषण में होगी बढ़ोत्तरी: डीएमसीए

संजीवनी टुडे 12-01-2019 19:20:18


नई दिल्ली। दिल्ली मेट्रो कम्यूटर्स एसोसिएशन(डीएमसीए) के संयोजक भीम तिवारी ने कहा है कि दिल्ली मेट्रो रेल कार्पोरेशन(डीएमआरसी) द्वारा मेट्रो की दो लाइनों का कार्य निजी कंपनियों के हाथों में सौंपने की कड़ी निंदा करता है।

भीम तिवारी ने कहा कि यह निर्णय मेट्रो रेल पॉलिसी के तहत लिया गया है, जिसे केन्द्रीय आवास एवं शहरी मामलों मंत्रालय द्वारा लाया गया है। इस पॉलिसी के तहत केंद्र सरकार द्वारा वित्तीय सहायता प्राप्त करने के लिए निजी कंपनियों को मेट्रो के संचालन और रखरखाव में संलग्न करना जरूरी है। निजी हाथों में मेट्रो कार्य सौंपना, सरकार के सार्वजनिक उपयोगिताओं को सार्वजनिक हित से हटाकर निजी मुनाफे का रास्ता बनाने की योजना का हिस्सा है।

जयपुर में प्लॉट/ फार्म हाउस: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314188188

भीम ने कहा कि यह फैसला पिछले साल मेट्रो किराया बढ़ोत्तरी के बाद लिया गया है। मेट्रो किराया बढ़ोत्तरी से बड़ी संख्या में यात्रियों को मेट्रो की यात्रा छोड़नी पड़ी थी और इस कारण दिल्ली की एक बड़ी आबादी को बहुत समस्या हुई थी।

साथ ही यह भी विदित हो कि डीएमआरसी को अपने कर्मचारियों का शोषण करने के लिए जाना जाता है, जहां बिना न्यूनतम मजदूरी सुनिश्चित किए उनसे लम्बे घंटे काम कराया जाता है। अब निजी कंपनियों के आने के बाद मेट्रो कर्मचारियों के शोषण में और भी ज्यादा वृद्धि सुनिश्चित होगी। पिछले साल मेट्रो के नॉन-एग्जीक्यूटिव कर्मचारी अपने शोषणकारी वेतन में बढ़ोत्तरी की मांग को लेकर आंदोलनरत रहे हैं। 

साथ ही, मेट्रो कार्यों का निजीकरण किए जाने से मेट्रो किराए में भी बड़ी बढ़ोत्तरी किए जाने का रास्ता सुलभ किया जा रहा है। निजी कम्पनियां दिल्ली मेट्रो को सस्ता और सुविधाजनक परिवहन सार्वजनिक हित के लिए मुहैया करने के लिए नहीं बल्कि अपने निजी मुनाफे के लिए चलाएंगी, जिससे सबसे पहला असर किराया बढ़ोत्तरी होगी। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

डीएमसीए का मानना है कि मेट्रो संबंधित कोई भी निर्णय बिना यात्रियों से विमर्श किये नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि कोई भी निर्णय सबसे ज्यादा उन्हें ही प्रभावित करेगा। डीएमसीए आने वाले दिनों में दिल्ली मेट्रो के निजीकरण के खिलाफ अपना आन्दोलन तेज़ करेगा।

sanjeevni app

More From national

Loading...
Trending Now
Recommended