संजीवनी टुडे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार की आखिरी चुनावी सभा में राहुल-लालू पर जमकर बोला हमला

संजीवनी टुडे 15-05-2019 20:21:07


पटना।   प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र के पालीगंज में राजग प्रत्याशियों के पक्ष में आयोजित चुनावी जनसभा में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद पर   बिना नाम लिये जमकर हमला बोला। प्रधानमंत्री की पालीगंज में बिहार की आखिरी 10वीं  चुनावी सभा हुई। प्रधानमंत्री ने कहा कि वे द्वारिकाधीश की नगरी से ताल्लुकात रखते हैं और हमारी प्रेरणा मक्खन खाने वाले बाल गोपाल हैं। हमारी प्रेरणा बांसुरी बजाने वाले कन्हैया हैं। तो हमारी प्रेरणा सुदर्शनचक्र चलाने वाले भगवान कृष्ण भी हैं। जब-जब जरूरत पड़ेगी भारत, आतंकियों को कुचलने के लिए सुदर्शनचक्रधारी कृष्ण का रूप लेकर भी कार्रवाई करेगा।

 
श्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस का नामदार परिवार हो या फिर बिहार का भ्रष्ट परिवार, इनकी संपत्ति आज सैकड़ों-हजारों करोड़ों रुपए में है। आखिर ये पैसे कहां से आए? अगर गरीब की जरा सी भी परवाह होती, अगर देश की जरा सी भी परवाह होती, तो भ्रष्टाचार करने से पहले इनके हाथ कांपते। उन्होंने कहा कि बिहार ने जिन पर दशकों तक भरोसा किया, उन्होंने बिहार को बदनामी के सिवा क्या दिया? इन लोगों ने आप लोगों से विश्वासघात किया है। जिस जाति के नाम पर इन लोगों ने राजनीति की, उस जाति से इन्हें पार्टी चलाने के लिए कोई योग्य व्यक्ति नहीं मिला। क्या इतनी बड़ी पार्टी में, पार्टी को संभालने की योग्यता और किसी में नहीं है। जिस जाति और समाज ने आँख बंद करके इनके परिवार को अरबों-खरबों का मालिक बनाया, गाड़ी-बंगला-पद-प्रतिष्ठा सब कुछ दिया, उसके साथ भी इन लोगों ने धोखा ही किया। इन्होंने देश को कुछ नहीं दिया, बिहार को कुछ नहीं दिया, अपनी जाति को भी कुछ नहीं दिया। इतना ही नहीं, अपनी जाति के दूसरे लोगों पर दबदबा बनाए रखने के लिए, जाति में जो अच्छे होनहार नौजवान थे, उन्हें भी दबंगई के रास्ते पर चढ़ा दिया। नौजवानों को जाति के नाम पर भ्रमित करके, उनके कंधे पर बंदूक रखकर, इन्होंने अपने ही समाज और जाति को बंधक बना लिया।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

प्रधानमंत्री  मोदी ने विकास को बाधित करने की साजिश से लेकर भ्रष्टाचार और आतंकवाद तक के मुद्दे पर कांग्रेस के महामिलावटी गैंग पर जम कर हमला किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी तैयारी कर रही है कि हार के बाद उसका ठीकरा पार्टी में किसके सिर फोड़ें? अब कांग्रेस ये तो कह नहीं सकती कि नामदार की वजह से हारी क्योंकि ये तो उनके वंशवाद के उसूलों के खिलाफ होगा। इसलिए पांचवे चरण के बाद ही नामदार परिवार के दो सबसे करीबी दरबारियों ने नामदार को बचाने के लिए अपनी तरफ से बैटिंग शुरू कर दी है, वरना इनकी हिम्मत नहीं है कि बिना कप्तान से पूछे, मैच खेलने मैदान में उतर जाएं। उन्होंने कहा कि एक बल्लेबाज तो नामदार के गुरु हैं जिन्हें मैदान में उतारा गया है। इन्होंने सिखों की भावनाओं का मजाक उड़ाते हुए कहा कि 84 का सिख दंगा हुआ तो हुआ! ये जानते हुए भी कि सिख भाई-बहनों के पुराने जख्म हरे होंगे, नामदार ने अपने गुरु से ये बयान दिलवाया। दूसरे बल्लेबाज, गुजरात चुनाव के दौरान हिट विकेट होने के बाद से ही मैदान से बाहर थे। मुझे गाली देने के बाद से छिपे हुए थे। वो भी अब मैदान में पहुंच गए हैं और जमकर मुझे गालियां दे रहे हैं। कांग्रेस में इस समय बड़ी-बड़ी बैठकें चल रही हैं, व्यूह रचना की जा रही है कि कैसे नामदार को बचाया जाए, कुछ भी करके कांग्रेस अपने नामदार पर हार की जिम्मेदारी नहीं आने देना चाहती। इसलिए कांग्रेस में अभी नाखून कटाकर शहीद होने वालों की होड़ मची हुई है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारे लिए देश के हर वर्ग, हर समुदाय, हर क्षेत्र का विकास जरूरी है। हम सबका साथ-सबका विकास के मंत्र को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। यही कारण है कि आजादी के इतिहास में पहली बार सामान्य वर्ग के गरीब युवाओं को भी 10% का आरक्षण मिल पाया है। इतना ही नहीं ओबीसी आयोग को महामिलावट वालों के तमाम अवरोध के बावजूद संवैधानिक दर्जा देने का काम भी एनडीए सरकार ने किया है। एनडीए सरकारों की यही निष्ठा और यही ईमानदारी है जिसके कारण 21वीं सदी का युवा आश्वस्त है। बिहार हमेशा से शिक्षा औऱ प्रतिभा की भूमि रही है। यहां से निकले आईएएस- आईपीएसऔर सिविल सेवा के अन्य अफसर देश को आगे बढ़ाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। उन्होंने कहा कि बिहार के गांव-गांव की उम्मीदों को, सपनों को नई ऊँचाई देने के लिए, गरीब से गरीब तक टेक्नोलॉजी को हम कैसे पहुंचा रहे हैं, इसका उदाहरण है डिजिटल इंडिया अभियान। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 मोदी ने कहा कि हमने 2022 तक किसान की आय दोगुनी करने का संकल्प लिया है, अन्नदाता को सौर ऊर्जा दाता बनाने का काम हाथ में लिया है। इसके लिए बीज से बाज़ार तक नई व्यवस्थाएं खड़ी की जा रही हैं। खेती से जुड़े छोटे खर्चों के लिए हमने पीएम किसान योजना के तहत सीधे किसानों के बैंक खाते में पैसे जमा करने शुरु कर दिए हैं। इसी तरह जो हमारे पशुपालक साथी हैं, उनके लिए पहली बार किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से ऋण की व्यवस्था हमने की है।

More From national

Loading...
Trending Now
Recommended