संजीवनी टुडे

कच्चा तिहाड़ कब्रिस्तान में पुलिस ने अंतिम संस्कार से रोका

संजीवनी टुडे 04-12-2020 20:03:57

कच्चा तिहाड़ कब्रिस्तान में पुलिस ने अंतिम संस्कार से रोका


नई दिल्ली। गांव कच्चा तिहाड़ के तकिया चमल वाला में 21 बीघा कब्रिस्तान की जमीन है जो दिल्ली सरकार के गज़ट 31-12-1970 के अनुसार दिल्ली वक्फ़ बोर्ड के अधीन है। कब्रिस्तान की देखरेख वक्फ़ बोर्ड के अंतर्गत एक कमेटी करती है। 2 दिसंबर को उस समय स्थानीय निवासियों को दिक्कत का सामना करना पड़ा जब वह एक लाश को कब्रिस्तान में दफ़नाने के लिए ले गए लेकिन हरि नगर थाने के एसएचओ जीत सिंह ने मय्यत को दफ़नाने से रोक दिया और कब्रिस्तान समिति से वक्फ़ बोर्ड की ओर से एनओसी लाने के लिए कहा। जब वक्फ़ बोर्ड के अधिकारी एनओसी लेकर पहुंचे तो एसीएम से आज्ञा पत्र लाने के लिए कहा। जब वह भी उपल्ब्ध करा दिया गया तो लॉ एण्ड ऑर्डर का हवाला देकर मय्यत को दफ़न करने से रोक दिया गया।

इसी बीच अन्य समुदाय के स्थानीय निवासियां ने वहां पहुंचकर हंगामा शुरू कर दिया जिसके बाद एसएचओ जीत सिंह ने लॉ एण्ड ऑर्डर का बहाना बनाकर मय्यत को दफ़न होने से रोक दिया। स्थानीय निवासियों को कहना है कि एसएचओ जानबूझकर मामले को सांप्रदायिक रंग दे रहे हैं। गौरतलब है कि गांव कच्चा तिहाड़ में तकिया चमल वाला के नाम से कब्रिस्तान की बड़ी जमीन है जिसमें 1980 तक तदफीन होती रही है। 1980 के बाद मामला कोर्ट में था जिसका फैसला 2015 मे वक्फ़ बोर्ड के पक्ष में आया। 

न्यायलय के आदेश के बावजूद स्थानीय पुलिस लाशों को दफन करने से क्यों रोक रही है, यह बात समझ से परे है। स्थानीय निवासीयों को कहना है कि इस पूरे मामले में पूलिस का रोल संधिग्ध रहा है। इस मामले में दिल्ली वक्फ़ बोर्ड ने तुरंत कार्यवाही करते हुए संबधित अधिकारीयों को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग की है।

यह खबर भी पढ़े: नौसेना दिवस पर ​रक्षा मंत्री बोले- समुद्रों को सुरक्षित रखने में नौसेना सबसे आगे

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended