संजीवनी टुडे

कैश को लेकर पीएम का नया ऐलान, अब इन नियमों को तोड़ने पर भरनी होगी भारी पेनाल्टी

इनपुट-यूनीवार्ता

संजीवनी टुडे 15-08-2019 21:40:25

मोदी ने डिजिटल पेमेंट को हां और नकद को ना करने की भी अपील की। संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि हमें डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देना होगा।


नई दिल्ली। स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले से तिरंगा फहराने के बाद डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने पर देशवासियों से अपील की। साथ ही मोदी ने एक नारा दिया 'लकी कल के लिए लोकल'. मोदी ने डिजिटल पेमेंट को हां और नकद को ना करने की भी अपील की। संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि हमें डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देना होगा। पीएम ने कहा, 'मैं व्यापारियों को कहूंगा कि आप बोर्ड लगाते हैं- आज नकद, कल उधार मैं चाहता हूं कि आप अब बोर्ड लगाएं 'डिजिटल पेमेंट को हां, नकद को ना', लेकिन देश में कैश में खरीद-फरोख्‍त की एक सीमा तय है। मोदी सरकार ने इसके लिए भी नियम बनाएं हैं और अगर नियमो को नजरअंदाज किया गया, तो भारी जुर्माना चुकाना होगा।

यह खबर भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 और धारा 35ए हटाना साहसिक निर्णय : खट्टर

जानें नियम के बारे में...
-घर में कैश रखने की कोई सीमा तय नहीं है। लेकिन घर में रखे कैश का सोर्स बताना जरूरी होता है। सोर्स नहीं बता पता है, तो 137% तक जुर्माना लगाया जा सकता है।

-बैंक खातों से कैश निकालने पर कोई टैक्स नहीं लगता है। 5 जुलाई 2019 को पेश हुए बजट में कैश निकासी पर टैक्स को लेकर घोषणा हुई है।  वह यह है कि 1 करोड़ रुपये से ज्यादा कैश निकालने पर 2 फीसदी TDS कटता है। 

यह खबर भी पढ़ें: डीटीसी की बसों में 29 अक्टूबर से महिलाओं का सफर होगा मुफ्त- केजरीवाल

-सेविंग अकाउंट में 50,000 रुपए से ज्यादा कैश जमा कर रहे हैं तो पैन कार्ड नंबर देना जरूरी है। कैश में पे-ऑर्डर या डिमांड ड्राफ्ट भी बनवा रहे हैं तो  पे ऑर्डर-DD में भी पैन नंबर देना होगा। 

-अगर कोई आपको लोन की रकम बैंक सीधे अकाउंट में ही भेजता है तो यह सीमा 20 हजार रुपये है। इससे ज्यादा कैश लोन लिया तो 100 फीसदी पेनाल्टी देनी होगी।

-प्रॉपर्टी बेचने पर कैश लेने की सीमा तय की गई है। अब आप सिर्फ 20,000 रुपये कैश का लेन-देन कर सकते हैं। अब इससे ज्यादा कैश लेने पर 100 फीसदी पेनाल्टी लगेगी।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

-कैश में भुगतान की सीमा भी पहले से तय की गई है। निजी खर्च के लिए 2 लाख रुपये तक कैश भुगतान होता है। वहीं, बिजनेस के लिए 10,000 रुपये तक कैश लिमिट तय की गई है।

-शादी में कैश खर्च करने की कोई लिमिट नहीं है। अगर आप 2 लाख रुपये से ज्यादा की खरीदारी करते है तो ऐसे में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के पास आपका नाम जाएगा। जिसमे  आप सही जवाब नहीं दे पाए तो 78% टैक्स और ब्याज लगेगा।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended