संजीवनी टुडे

PM मोदी ने ‘खेलो इंडिया’ की तर्ज पर ‘खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स’ आयोजन का लिया निर्णय

संजीवनी टुडे 26-01-2020 19:25:28

मोदी ने कहा है कि खेलो इंडिया के माध्यम से देश में तीन साल के दौरान हजारों खेल प्रतिभाएं सामने आयी हैं और इससे उत्साहित होकर सरकार ने अब इसी तर्ज पर खेलाे इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स का आयोजन करने का निर्णय लिया है।


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि‘खेलो इंडिया’ के माध्यम से देश में तीन साल के दौरान हजारों खेल प्रतिभाएं सामने आयी हैं और इससे उत्साहित होकर सरकार ने अब इसी तर्ज पर ‘खेलाे इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स’ का आयोजन करने का निर्णय लिया है।

यह खबर भी पढ़ें:​ ​रोड शो में उमड़ी भीड़ देख गदगद हुए शाह, ट्वीट कर कहा- “दिल्ली के घोंडा में...

मोदी ने रेडियाे पर हर महीने प्रसारित होने वाले अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ की इस साल प्रसारित होने वाली पहली कड़ी में कहा कि ‘खेलाे इंडिया’ बहुत सफल है और इसके कारण देश को खेल प्रतिभाएं मिली हैं। इसकी सफलता उत्साहित करने वाली है और इसलिए ‘खेलाे इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स’ शुरू किए जा रहे हैं और 22 फरवरी से एक मार्च तक उड़ीशा के भुवनेश्वर तथा कटक में इन खेलाें का आयोजिन किया जा रहा है। इन खेलों में तीन हजार से अधिक प्रतिभागी शामिल होंगे।

हाल में असम के गुवाहाटी में संपन हुए तीसरे ‘खेलो इंडिया’ के सफल आयोजन के लिए असम के लोगों को बधाई देते हुए मोदी ने कहा “मैं असम की सरकार और असम के लोगों को ‘खेलो इण्डिया’ की शानदार मेज़बानी के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं। गुवाहाटी में 22 जनवरी को संपन्न हुए इन खेलों में विभिन्न राज्यों के करीब छह हज़ार खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया। खेलों के इस महोत्सव में 80 रिकार्ड टूटे और मुझे गर्व है कि इसमें 56 रिकार्ड तोड़ने का काम हमारी बेटियों ने किया है। ये सिद्धि, बेटियों के नाम हुई है। मैं सभी विजेताओं के साथ ही इसमें हिस्सा लेने वाले प्रतिभागियों को बधाई देता हूं।’

उन्होंने कहा कि साल-दर-साल ‘खेलो इंडिया गेम्स’ में खिलाड़ियों की भागीदारी बढ़ रही है। उन्होंने खेलों के प्रति बच्चों के बढते झुकाव का जिक्र करते हुए कहा “ मैं आपको बताना चाहता हूं, कि 2018 में, जब ‘खेलो इंडिया गेम्स’ की शुरुआत हुई थी, तब इसमें 3500 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया था, लेकिन महज़ तीन वर्षों में खिलाड़ियों की संख्या करीब दोगुना बढकर छह हज़ार से अधिक हो गई है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

More From national

Trending Now
Recommended