संजीवनी टुडे

पद्मावत विवाद: जैन मुनि तरुण सागर के कड़वे वचन, कहा- जो सर्व्वोच...

संजीवनी टुडे 23-01-2018 20:43:40

Padmavat controversy Jain Muni Tarun Sagars bitter words  who does not accept the decision of the Supreme Court how can he be Indian

नई दिल्ली। संजय लीला भंसाली द्वारा निर्देशित फिल्म  पद्मावती उर्फ़ "पद्मावत" (बदला हुआ नाम)  को लेकर देश भर में मचे हंगामे के बीच विख्यात जैन मुनि तरुण सागर ने विरोध कर रहे राजपूत समुदाय को अपने कड़वे वचन सुनाए है। जिसके तहत उन्होंने कहा, जो देश की सर्व्वोच अदालत का फैसला नहीं मान रहा वो कैसे भारतीय हो सकता है ?

यह भी पढ़े: इस लड़की का डांस हो रहा है वायरल...देखकर हो जाओगे अदाओ के दीवाने

जैन मुनि ने कहा है कि राज्य सरकारों की याचिका सुनने से इनकार कर एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट ने बताया दिया है कि वह सर्वोच्य कोर्ट है। ऐसे में जो सुप्रीम कोर्ट का आदेश न माने वो कैसा हिंदुस्तानी? ऐसे लोगों को हिंदुस्तानी कहने पर भी शंका है। 

Padmavat controversy Supreme Court rejects Lataad petition for Rajasthan and MP government

ध्यान रहे देश भर में पद्मावत को रिलीज करने के आदेश देने के बाद आज सुप्रीम कोर्ट द्वारा हटाए गए बैन पर मंगलवार को राजस्थान और मध्यप्रदेश की सरकार की याचिका को खारिज कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि इस दौरान सुप्रीम कोर्ट द्वारा सरकार को लताड़ भी लगाई गई। गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई गई थी। जिसे खारिज कर दिया गया। अब लॉ एंड ऑडर को संभालना मैरी और मैरी टीम की जिम्मेदारी है।

यह भी पढ़े: कांग्रेस के एमएलसी दीपक सिंह ने की पुलिस अधिकारी के साथ बदतमीजी

सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस ने कहा कि ये कोई इतिहास से छेड़छाड़ नहीं है। विशेषज्ञों ने फिल्म देखी है और इसमें डिस्‍कलेमर भी है। लोगों को समझना चाहिए कि सुप्रीम कोर्ट ने आदेश जारी किया है इसका पालन होना चाहिए, हालांकि राज्य लोगों को सलाह दे सकता है कि फिल्म ना देखें। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि क्या कुछ लोग कानून व्यवस्था में बाधा डाल रहे हैं तो क्या फिल्म को बैन किया जाए? कोर्ट ने आदेश जारी किया है, सेंसर बोर्ड ने सर्टिफिकेट दिया है, इसे समझना चाहिए। 

More From national

loading...
Trending Now
Recommended