संजीवनी टुडे

नरेला और बवाना में प्रदूषण फैलाने वाली 101 औद्योगिक इकाइयों को बंद करने का आदेश

संजीवनी टुडे 29-05-2019 02:20:00


नई दिल्ली। नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल (एनजीटी) ने बाहरी दिल्ली के नरेला और बवाना में प्रदूषण फैलाने वाली 101 औद्योगिक इकाइयों को बंद करने का आदेश दिया है। इन उद्योगों ने एनजीटी के आदेश के बावजूद जुर्माने की रकम जमा नहीं की थी जिसके बाद एनजीटी ने ये आदेश जारी किया है। एनजीटी चेयरपर्सन जस्टिस आदर्श कुमार गोयल ने दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी को इस संबंध में एक्शन टेकन रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया । इस मामले पर अगली सुनवाई 12 सितंबर को होगी। 

एनजीटी ने दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी को तीन महीने के अंदर इन उद्योगों पर मुआवजे का आकलन करने का निर्देश दिया है । एनजीटी ने साफ कहा कि एयर और वाटर एक्ट के तहत पर्यावरण कानूनों का उल्लंघन करने वाले उद्योगों से इलाके के एसडीएम या नगर निगम जुर्माना वसूल सकते हैं। इसके अलावा वे चाहें तो अपराध प्रक्रिया संहिता के तहत भी उद्योगों के खिलाफ कार्रवाई कर सकते हैं। सुनवाई के दौरान एनजीटी को बताया गया कि ठोस कचरे का निस्तारण वेस्ट टू एनर्जी प्लांट में किया गया है । 

244 उद्योग अपना कचरा जलाते या गैरआधिकारिक जगह पर गिराते पाए गए जिसके बाद उन्हें पचास हजार रुपये का जुर्माना भरने का आदेश दिया गया। इनमें से 101 इकाइयों ने जुर्माना नहीं भरा। इसी रिपोर्ट के बाद एनजीटी ने उन 101 इकाइयों को बंद करने का आदेश दिया है। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

याचिका दिल्ली के निवासी अरुण कुमार ने ई-मेल के जरिये दायर की है। याचिका में कहा गया है कि नरेला और बवाना के प्लास्टिक और जूते की फैक्ट्री से काफी ज्वलनशील पदार्थ निकलते हैं। याचिका में कहा गया है कि ये उद्योग अपना कचरा जहां-तहां डंप करते हैं जिससे इलाके के लोगों के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ रहा है।

 मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314188188

 

More From national

Trending Now
Recommended