संजीवनी टुडे

ढोंगी बाबा वीरेंद्र दीक्षित के आध्यात्मिक विश्वविद्यालय को तोड़ने का आदेश

संजीवनी टुडे 15-07-2019 20:59:21

दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली नगर निगम को आदेश दिया है कि वो रेप के मामले में फरार चल रहे ढोंगी बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित के विजय विहार स्थित आध्यात्मिक विश्वविद्यालय को तोड़ दे।


नई दिल्ली। दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली नगर निगम को आदेश दिया है कि वो रेप के मामले में फरार चल रहे ढोंगी बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित के विजय विहार स्थित आध्यात्मिक विश्वविद्यालय को तोड़ दे। सुनवाई के दौरान नगर निगम ने हाई कोर्ट को बताया कि जब वे आध्यात्मिक विश्वविद्यालय को तोड़ने पहुंचे तो विश्वविद्यालय ने रोहिणी कोर्ट से स्टे आर्डर ले लिया। तब हाई कोर्ट ने कहा कि ये बिल्डिंग अवैध है, इसलिए इसे तोड़ा जाए।सुनवाई के दौरान दिल्ली हाई कोर्ट ने रोहिणी कोर्ट को ये आदेश जारी किया कि वो आध्यात्मिक विश्वविद्यालय से जुड़े मामले का निपटारा जल्द करें। सुनवाई के दौरान सीबीआई ने कोर्ट को बताया कि वो मामले में चार्जशीट दायर कर चुकी है और 47 गवाहों के बयान दर्ज किए जा चुके हैं।

इस मामले में सीबीआई ने पिछले 13 जून को वीरेंद्र देव दीक्षित के खिलाफ चार्जशीट दाखिल किया था। चार्जशीट में दीक्षित के खिलाफ देश के कई शहरों में अध्यात्म की शिक्षा के नाम पर महिलाओं व लड़कियों के साथ रेप का आरोप लगाया गया है। आरोप पत्र में सीबीआई ने कहा है कि दीक्षित के खिलाफ कई पीड़िताएं सामने आई हैं। सीबीआई की चार्जशीट एक नाबालिग लड़की की शिकायत पर दाखिल की गई है। लड़की ने 1999 में उत्तर प्रदेश और दिल्ली के आश्रम में दीक्षित द्वारा रेप करने संबंधी एफआईआर दर्ज कराई थी। चार्जशीट में कहा गया है कि पिछले अप्रैल में सीबीआई ने दीक्षित पर पांच लाख रुपये का इनाम का ऐलान किया था। 26 मार्च 2018 को वीरेन्द्र देव दीक्षित के खिलाफ नेपाल में ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी किया गया था। इसके बाद पिछले 21फरवरी को उसके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी हुआ था।उल्लेखनीय है कि दिल्ली हाई कोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई ने 3 जनवरी 2018 को दीक्षित के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended