संजीवनी टुडे

देश में बच्चों के साथ यौन अपराध से बनी ‘राष्ट्रीय आपातकाल‘की स्थिति : कैलाश सत्यार्थी

संजीवनी टुडे 17-04-2018 18:34:45

नई दिल्ली। भारत के मध्य प्रदेश के विदिशा में 11 जनवरी 1954 को जन्मे नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित कैलाश सत्यार्थी ने मंगलवार को देश में बच्चों के साथ यौन अपराध को लेकर बड़ा बयान दिया है उन्होंने 

कहा कि देश में बच्चों के साथ दुष्कर्म और यौन अपराध की बढ़ती घटनाओं से ‘राष्ट्रीय आपातकाल की स्थिति’ बन गई है इसलिए संसद के आगामी सत्र में इस मुद्दे पर चर्चा कराकर इस समस्या से निपटने के लिए समयबद्ध राष्ट्रीय कार्ययोजना तैयार की जानी चाहिए।

ू

कैलाश सत्यार्थी ने चिल्ड्रन फाउंडेशन की ओर से देश में बच्चों की सुरक्षा में खामियों पर आयोजित एक संगोष्ठी में अपने संबोधन में राजनीतिक दलों से कहा कि वे बच्चों के शवों को ‘राजनीतिक युद्ध’ का मैदान न बनाएं। बच्चों के साथ अपराध पर राजनेताओं के रुख की कड़ी आलोचना करते हुए उन्होने अफसोस जताया कि आज तक देश की संसद में इस गंभीर मुद्दे पर चर्चा नहीं हुई। 

MUST WATCH

चिंता जताई कि देश में यौन अपराधों से बच्चों की सुरक्षा संबन्धी कानून (पाक्सो) के तहत एक लाख मामले लंबित हैं और कहा कि बच्चों के यौन शोषण मामलों के त्वरित निपटारे के लिए राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण की तर्ज पर राष्ट्रीय बाल न्यायाधिकण गठित किया जाना चाहिए। उन्होंने इन मामलों के त्वरित सुनवाई के लिए हर जिले में अलग से एक न्यायालय की भी मांग की जिनमें संवेदनशील और प्रशिक्षित अधिकारियों को तैनात किया जाय। 

Rochak News Web

More From national

Trending Now
Recommended