संजीवनी टुडे

नागपुर विवि में बिना इजाजत विरोध सभा करने वालों पर होगी कार्रवाई : कुलपति

संजीवनी टुडे 12-01-2019 17:43:13


नागपुर। राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. सिद्धार्थ विनायक काणे ने कहा है कि विश्वविद्यालय परिसर में बिना अनुमिति के विरोध सभा करने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

जयपुर में प्लॉट/ फार्म हाउस: 21000 डाउन पेमेन्ट शेष राशि 18 माह की आसान किस्तों में, मात्र 2.30 लाख Call:09314188188

कुलपति डॉ. काणे ने शनिवार को हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि विश्वविद्यालय परिसर में बिना अनुमति के कोई कार्यक्रम आयोजित करना गैरकानूनी है। जानकारी मिली है कि शुक्रवार को विश्वविद्यालय परिसर में कुछ लोगों ने बिना अनुमति के ही सभा की। इस पूरे प्रकरण की जांच कराने के बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक, नागपुर विश्वविद्यालय के मास कम्यूनिकेशन विभाग, लाइब्रेरी एंड इनफार्मेशन साइंस, मराठी भाषा एवं राजनीति शास्त्र विभागों के कुछ प्राध्यापकों ने शुक्रवार को परिसर में बिना अनुमति के संयुक्त सभा की थी। सभा में मराठी भाषा विभाग के प्रो. शैलेंद्र लेंडे, मास कम्यूनिकेश के प्रो. धर्मेश धवनकर, राजनीति शास्त्र विभाग के प्रो. विकास जांभुलकर और डॉ. प्रमोद मुनघाटे प्रमुख रूप से उपस्थित थे। इस सभा में राज्य सरकार के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया गया था। खास बात यह रही कि विश्वविद्यालय प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं लगी। प्रस्ताव में कहा गया है कि राज्य सरकार के दबाव के कारण अखिल भारतीय मराठी साहित्य सम्मेलन के आयोजकों ने अंग्रेजी लेखिका नयनतारा सहगल के सभी कार्यक्रम रद्द किए हैं।

उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र के यवतमाल जिले में 11 से 13 जनवरी तक चलने वाले अखिल भारतीय मराठी साहित्य सम्मेलन में नयनतारा सहगल को आमंत्रित किया गया था, लेकिन महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के स्थानीय नेताओं के विरोध के चलते आयोजकों ने सहगल के सारे कार्यक्रम रद्द कर दिए थे। 

इसके बाद कुछ लोगों ने आरोप लगाया था कि राज्य सरकार के दबाव के कारण ही आयोजकों ने नयनतारा सहगल के कार्यक्रम रद्द किए हैं। हालांकि, राज्य सरकार के सांस्कृतिक मामलों के मंत्री विनोद तावड़े ने इस प्रकार के आरोपों को दुर्भाग्यपूर्ण बताया था। उन्होंने कहा था कि मराठी साहित्य सम्मेलन के आयोजन से सरकार को कोई लेना-देना नहीं है। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग की प्रो. शोमा सेन नक्सली गतिविधियों में संलिप्तता के आरोप में जेल में हैं। वहीं, अनुमति के बिना वर्ष 2017 में विश्वविद्यालय परिसर में माकपा महासचिव सीताराम येचुरी का व्याख्यान आयोजित किया गया था।

sanjeevni app

More From national

Loading...
Trending Now
Recommended