संजीवनी टुडे

अर्थव्यवस्था की सुस्ती से ऐसे निपटेगी मोदी सरकार, वित्त मंत्री ने की बड़ी घोषणाएं

संजीवनी टुडे 23-08-2019 22:09:05

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को एक अहम प्रेस कॉन्फ्रेंस की।


नई दिल्ली। सुस्त अर्थव्यवस्था और अलग अलग सेक्टर में लोगों की नौकरी का जाना पूरे देश में चिंता का विषय बना हुआ है। इन्हीं चिंताओं के बीच केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को एक अहम प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

यह खबर भी पढ़ें:  वित्त मंत्री सीतारमण ने टैक्सपेयर्स और इंडस्ट्री लिए किये ये 5 बड़े ऐलान, जानें

इसमें केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार को देश की मौजूदा आर्थिक हालत का पूरा अंदाज़ा है और देश की विकास का एजेंडा सबसे ऊपर है। 

ु

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट के दौरान फॉरेन पोर्टफोलियो इनवेस्टमेंट (FPI) की आय पर आयकर सरचार्ज बढ़ाने का फ़ैसला वापस ले लिया। साथ ही घरेलू निवेशकों के लिए भी आयकर सरचार्ज को बढ़ाने का निर्णय भी रद्द कर दिया। 

वित्त मंत्री ने शेयर बाज़ार में लॉन्ग टर्म और शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन पर सरचार्ज को बढ़ाने के सरकार के फ़ैसले की वापसी की भी घोषणा की। 

वित्त मंत्री के साथ इस प्रेस वार्ता में केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर, वित्त सचिव राजीव कुमार, राजस्व सचिव अजय भूषण पांडेय, आर्थिक सचिव अतनु चक्रवर्ती, एक्सपेंडिचर सचिव गिरीश चंद्र मुर्मू भी मौजूद थे। 

निर्मला सीतारमण की घोषणाएं
-सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के लिए 70 हज़ार करोड़ के बेलआउट पैकज की मंज़ूरी दी गई।
-बैंकों को रेपो रेट की कटौती का फ़ायदा ब्याज में कमी कर ग्राहकों को देना होगा।
-लोन सेटलमेंट की शर्तें आसान हुईं. लोन की अर्ज़ी की ऑनलाइन मॉनिटरिंग होगी। कर्ज़ वापसी के 15 दिनों के भीतर बैंकों को ग्राहकों को दस्तावेज़ देने होंगे।
-टैक्स के लिए किसी को परेशान नहीं किया जाएगा। टैक्स असेसमेंट तीन महीने में पूरा किया जाएगा। आयकर से जुड़े ऑर्डर 1 अक्तूबर से -सेंट्रलाइज़्ड सिस्टम के ज़रिए जारी किए जाएंगे। 
-जीएसटी रिफंड आसान होगा, सभी जीएसटी रिफंड 30 दिन में किए जाएंगे. एमएसएमई की अर्जी के 60 दिनों के भीतर रिफंड दिया जाएगा। 
-इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर के लिए 100 करोड़ रुपये का पैकेज़ दिया जाएगा। इस सेक्टर के कामकाज पर नज़र रखने के लिए स्पेशल टास्क फोर्स बनाई जाएगी। 
-सीएसआर उल्लंघन को क्रिमिनल नहीं सिविल अपराध माना जाएगा। 

ु

-स्टार्टअप टैक्स निपटारे से जुड़े मामलों के लिए अलग सेल बनेगा. -स्टार्टअप पंजीकरण में आयकर की धारा 56 2 (बी) लागू नहीं होगी. स्टार्टअप्स में एंजेल टैक्स ख़त्म। 
-31 मार्च 2020 तक ख़रीदे गए बीएस-IV वाहन अपने रजिस्ट्रेशन पीरियड तक बने रहेंगे और उनके वन टाइम रजिस्ट्रेशन फ़ीस को जून 2020 तक के लिए बढ़ा दिया गया। 
-ऑटोमोबाइल सेक्टर में स्क्रैपेज पॉलिसी (पुरानी गाड़ियां का सरेंडर) लाएगी सरकार. गाड़ियों की ख़रीद बढ़ाने के लिए सरकार कई योजनाओं पर काम कर रही है। 
-अमरीका और चीन के बीच ट्रेड वॉर से हालात पर नकारात्मक असर पड़ा है। 
-अमरीका और चीन जैसे देशों में मांग में कमी के आसार हैं लेकिन हमारा विकास दर उनकी तुलना में आगे है। 
-अमरीका और जर्मनी विपरीत यील्ड कर्व्स का सामना कर रहे हैं, यानी इन देशों में मांग में कमी आई है। 
-भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत है। यहां कारोबार करना आसान हुआ. हम लगातार व्यापार को आसान कर रहे हैं। इसके लिए सभी मंत्रालय साथ मिलकर काम कर रहे हैं।
-प्रधानमंत्री ने कहा कि हम वेल्थ क्रिएटर का आदर करते हैं। हमने अलग-अलग सेक्टर के लोगों से मुलाक़ात की। सरकार के एजेंडे में सुधार सबसे ऊपर है। 

ु

भारतीय अर्थव्यवस्था
-मूडीज़ ने भारत के जीडीपी ग्रोथ को घटाकर 6.2 फ़ीसदी कर दी है जो पहले 6.8 फ़ीसदी थी। 
-2019 में वैश्विक विकास 3.2 फ़ीसदी से नीचे रह सकता है। 
-पर्यावरण को लेकर मंजूरी में पहले से अब कम समय लगता है। इनकम टैक्स भरना पहले से बहुत आसान हुआ है। हम जीएसटी को और आसान बनाएंगे। 
-इज़ ऑफ़ डूइंड बिज़नेस के मामले में यह सरकार पिछली सरकारों की तुलना में बहुत आगे है। 
-अगले हफ़्ते होम बायर्स और अन्य मामलों को लेकर भी कुछ घोषणाएं की जाएंगी।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

More From national

Trending Now
Recommended