संजीवनी टुडे

मोदी सरकार ने की चीन पर 'डिजिटल सर्जिकल स्‍ट्राइक', लगा इतना बड़ा झटका

संजीवनी टुडे 30-06-2020 10:24:15

लद्दाख में चीन के साथ जारी तनाव के बीच भारत सरकार ने चीनी मोबाइल ऐप्‍स पर बैन लगाकर कूटनीति का एक नया पासा फेंका है। केंद्र सरकार ने एक मास्‍टरस्‍ट्रोक चलते हुए टिक टॉक यूसी ब्राउजर सहित चीन के 59 ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया।


डेस्क। लद्दाख में चीन के साथ जारी तनाव के बीच भारत सरकार ने चीनी मोबाइल ऐप्‍स पर बैन लगाकर कूटनीति का एक नया पासा फेंका है। केंद्र सरकार ने एक मास्‍टरस्‍ट्रोक चलते हुए टिक टॉक, यूसी ब्राउजर सहित चीन के 59 ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया। केंद्र सरकार ने कहा कि ये ऐप देश की संप्रभुता, अखंडता और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए हानिकारक हैं। चूंकि इन ऐप्‍स से मिलते-जुलते फीचर्स वाले ऐप की कमी नहीं, इसलिए भारत को नुकसान नहीं है। मगर चीन के लिए भारत का ऐप मार्केट न सिर्फ बहुत बड़ा था, बल्कि वह बढ़ भी रहा था। 

TikTok
चीनी के कारोबारी हितों को नुकसान पहुंचाने वाला यह एक बड़ा फैसला है। इन ऐप्‍स को अब भारत में डाउनलोड और इस्‍तेमाल नहीं किया जा सकेगा। जिस तरह से भारत में चीन के खिलाफ माहौल है, यह बैन कई और सेक्‍टर्स में भी बढ़ाया जा सकता है। यह फैसला चीनी कारोबारियों और चीन के लिए भारत की ओर से एक अहम संदेश है।

भारत उन देशों में से हैं जहां इंटरनेट के दाम दुनिया में सबसे कम हैं। यहां 80 करोड़ से ज्‍यादा कंज्‍यूमर्स हैं। इनमें से आधे से ज्यादा स्‍मार्टफोन यूजर्स 25 सााल या उससे कम उम्र के हैं। 59 चीनी ऐप्‍स को बंद करके भारत ने न सिर्फ अपने इरादे जाहिर किए हैं, बल्कि चीन को साफ संदेश दिया है। 

इनमें कई ऐप ऐसे हैं, जो कि काफी पॉपुलर हैं। जैसे टिकटॉक के ही लगभग 10 करोड़ यूजर हैं देश में, यह उन इलाकों में युवाओं के बीच खासी लोकप्रिय थी जो आमतौर पर आधुनिक सुविधाओं से अछूते हैं। टिकटॉक पर मौजूद 30% वीडियो भारतीय यूजर्स बनाते हैं। भारतीय युवा इन चीनी ऐप्‍स पर अच्‍छा-खासा समय बिताते थे यानी चीन इनके सामने जैसा चाहता, वैसा कंटेंट परोस सकता था। भारत ने बैन लगाकर इन चीनी ऐप्‍स के लिए एक बहुत बड़े मार्केट के दरवाजे बंद कर दिए हैं।

टिकटॉक के अलावा Helo और Likee जैसे सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म्‍स खासे मशहूर हैं। Bigo Live उन यूजर्स के बीच पॉपुलर हैं जो अंग्रेजी में कम्‍फर्टेबल नहीं हैं। जब ये यूजर्स अचानक से चीनी ऐप्‍स यूज करना बंद कर देंगे तो उन्हें रेवेन्‍य का अच्‍छा-खासा नुकसान होगा। अधिकतर ऐप्‍स कमाई के लिए यूजर्स को बीच-बीच में ऐड दिखाती हैं। अगर बड़ा यूजरबेस ही गायब हो जाए तो ऐड से आने वाली रेवेन्‍यू पर हिट होगा।

TikTok

चीनी ऐप्‍स पर बैन लगाने से भारत पर कोई असर नहीं पड़ेगा। जो यूजर्स उन ऐप्‍स को यूज करते थे, उन्‍हें अब विकल्‍प ढूंढने होंगे जो मार्केट में कम नहीं हैं। दूसरी बात, इस बैन के चलते कई भारतीय डेवलपर्स ऐप्‍स बनाने के लिए उत्‍साहित होंगे। कई ने तो अपने ऐप्‍स में 'मेक इन इंडिया' लिखना शुरू भी कर दिया है।

जानकारी के अनुसार भारत सरकार की तरफ से एक नोटिफिकेशन जारी होगी जिसमें इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स से इन ऐप्‍स को ब्‍लॉक करने के लिए कहा जाएगा। ऐप के यूजर्स को जल्‍द ही स्‍क्रीन पर मैसेज दिखने लगेगा कि सरकार के निर्देश पर ऐप का एक्‍सेस रोका गया है। गूगल प्‍ले स्‍टोर और ऐप्‍पल के ऐप स्‍टोर पर भी यही मैसेज दिखेगा। हालांकि, उन ऐप्‍स का इस्‍तेमाल जारी रह सकता है जिन्‍हें ऐक्टिव इंटरनेट कनेक्‍शन की जरूरत नहीं है। हालांकि इन ऐप्‍स को अब भारत में डाउनलोड नहीं किया जा सकेगा।

यह खबर भी पढ़े: मोदी सरकार ने टिकटॉक समेत 59 चाइनीज एप्स पर लगाया प्रतिबंद, जानिए कौन कौन से एप्स हैं इसमें शामिल

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended