संजीवनी टुडे

मोदी सरकार ने 59 चाइनीज एप्स को किया बैन, यूजर्स ने पूछा क्या ये बैन हमेशा के लिए रहेगा?

संजीवनी टुडे 30-06-2020 08:44:34

सोमवार को 59 चाइनीज ऐप्स को भारत में इस्तेमाल करने से बैन कर दिया है। इनमें टिकटॉक लाइक यूकैम मेकअप क्लब फैक्ट्री और शीन जैसे ऐप शामिल हैं। सोशल मीडिया पर 59 चीनी ऐप्स को लेकर लोग कई तरह के सवाल पूछ रहे हैं।


नई दिल्ली। सरकार ने बीते सोमवार को 59 चाइनीज ऐप्स को भारत में इस्तेमाल करने से बैन कर दिया है। इनमें टिकटॉक, लाइक, यूकैम मेकअप, क्लब फैक्ट्री और शीन जैसे ऐप शामिल हैं। सोशल मीडिया पर 59 चीनी ऐप्स को लेकर लोग कई तरह के सवाल पूछ रहे हैं। जैसे - ऐप काम करेगा या नहीं, अब तक क्यों डाउनलोड का ऑप्शन दिख रहा है।TikTok

सवाल: भारत सरकार ने 59 चीनी ऐप्स को बैन करने का ऐलान किया है। क्या ये ऐप्स अब आपके स्मार्टफोन में काम करना बंद कर देंगे?

जवाब: अभी के लिए नहीं बंद होंगे। ऐप बैन और ब्लॉक दो चीजें हैं, जिन्हें पहले समझना होगा। इससे पहले भी चीनी ऐप्स भारत में बैन किए जा चुके हैं।

सरकार की रिक्वेस्ट के बाद कंपनियां कुछ समय लेती हैं और इसके बाद इन्हें ऐप प्लेटफॉर्म से हटाया जाता है।

सोशल मीडिया पर लोग लगातार ये सवाल पूछ रहे हैं कि ये किस तरह का बैन है। क्योंकि ऐप तो अब भी काम कर रहे हैं और ये अब तक प्ले स्टोर और ऐप स्टोर में डाउनलोड के लिए उपलब्ध हैं तो फिर इसे कैसे बैन कहा जाए।

ऐप बैन करने की स्थिति में आम तौर पर सरकार की तरफ गूगल और ऐपल को अपने भारतीय ऐप स्टोर से इन ऐप्स को हटाने के लिए कहा जाता है। इसमें थोड़ा वक्त लगता है। 

Tik Tok ऐप यूजर्स और कॉन्टेंट का क्या होगा?

एक बड़ा सवाल कॉन्टेंट को लेकर भी है। भारत में TikTok के करोड़ों यूजर्स हैं। ऐसे में टिक टॉक के वीडियोज कहां जाएंगे? यूजर्स टिक टॉक पर कॉन्टेंट से पैसे भी कमाते हैं उन यूजर्स का डेटा कहां रखा जाएगा?

जिन स्मार्टफोन यूजर्स के पास टिक टॉक पहले से ही इंस्टॉल्ड है, क्या वो इस ऐप को यूज कर पाएंगे?

गौरतलब है कि भारत में पहले भी कुछ चीनी ऐप्स को बैन किया गया है। इनमें Tik Tok भी है। तब भी बैन करने के बाद इसे गूगल प्ले स्टोर और ऐप स्टोर से हटा दिया गया था। यानी कोई नया यूजर इसे इंस्टॉल नहीं कर सकता था। 

यानी अगर इस बार पिछली बार की तरह ही सरकार बैन लगाती है तो आपके स्मार्टफोन का ऐप काम करता रहेगा. कॉन्टेंट भी अपलोड कर सकेंगे. लेकिन नया यूजर इसे डाउनलोड नहीं कर पाएगा. पिछली बार ये भी देखने को मिला था कि टिक टॉक ऐप को लोग एक दूसरे के साथ मोबाइल से शेयर करने लगे.

अब टिक टॉक को छोड़ कर दूसरे चीनी ऐप्स की बात करें तो शायद इन ऐप्स के साथ भी इसी तरह का नियम लागू होगा। यानी सरकार गूगल और ऐपल से इसे अपने ऐप प्लेटफॉर्म से हटाने के लिए कहेगी। प्ले स्टोर और ऐप स्टोर से हटाए जाने के बाद ये ऐप काम करता रहेगा। 

पूरी तरह बैन होने पर ऐप्स यूज नहीं किए जा सकेंगे?

नहीं: यदि सरकार चाहे तो ये सभी 59 ऐप्स को पूरी तरह ब्लॉक कर सकती है। इसके लिए सरकार आईपी एड्रेस का सहारा ले सकती है। ऐसा करने से यूजर इन ऐप्स को यूज ही नहीं कर पाएंगे। हालांकि इन सब के बावजूद कई तरीके हैं जिनसे ये ऐप्स यूज किए जा सकते हैं जो ट्रिकी हैं। 

TikTok

क्या असर पड़ेगा इस बैन का

इनमें कई ऐप ऐसे हैं, जो कि काफी पॉपुलर हैं। जैसे टिकटॉक के ही लगभग 10 करोड़ यूजर हैं देश में। इनमें से कई लोग अपने वीडियो के ज़रिए पैसे कमाते हैं। उनके लिए ये स्रोत बंद हो जाएगा, जब तक कि इसका कोई दूसरा विकल्प नहीं मिल जाता।  शेयरइट भी इस लिस्ट में शामिल है। इसका इस्तेमाल कई लोग अपनी फाइलें इत्यादि भेजने के लिए करते हैं। उन्हें भी नए विकल्प ढूंढने होंगे। 

क्या ये बैन हमेशा के लिए रहेगा?

कुछ समय पहले मद्रास हाई कोर्ट ने भी टिकटॉक पर बैन लगाया था। लेकिन कुछ दिनों बाद ही इस पर से बैन हटा लिया गया था। लेकिन इस बार ये बैन कब तक रहेगा, इस बाबत अभी कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है। 

ये स्टोरी लिखे जाने तक लिस्ट में दिए सभी ऐप प्ले स्टोर पर उपलब्ध नजर आ रहे हैं।

यह खबर भी पढ़े: मोदी सरकार ने चीन को दिया बड़ा झटका, टिकटॉक समेत चीन के 59 चाइनीज एप्स को किया बैन, जल्द ही चीन से आयात पर भी लगेगी लगाम

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended