संजीवनी टुडे

विधायक किरण माहेश्वरी का कोरोना से निधन, पार्थिव देह उदयपुर पहुंचा, मंगलवार को होगा अंतिम संस्कार

संजीवनी टुडे 30-11-2020 22:45:13

उदयपुर की पहली महिला सभापति और राजस्थान की पूर्व मंत्री राजसमन्द विधायक श्रीमती किरण माहेश्वरी का रविवार देर रात कोरोना से निधन हो गया।


उदयपुर। उदयपुर की पहली महिला सभापति और राजस्थान की पूर्व मंत्री राजसमन्द विधायक श्रीमती किरण माहेश्वरी का रविवार देर रात कोरोना से निधन हो गया। गत 28 अक्टूबर को कोरोना पॉजिटिव होने की रिपोर्ट आने के बाद उन्हें उदयपुर के गीतांजली अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां स्वास्थ्य में सुधार नहीं नजर आने पर उन्हें लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने मेदांता ले जाने की सलाह दी। उन्हें 7 नवम्बर को एयरलिफ्ट करके गुडग़ांव मेदांता अस्पताल ले जाया गया था। वहां कोरोना से जंग लड़ते लड़ते रविवार देर रात उन्होंने अंतिम सांस ली। 

उनकी पार्थिव देह के साथ काफिला सडक़ मार्ग से रवाना हुआ जो शाम को उदयपुर पहुंचा। मार्ग में जगह-जगह भाजपा कार्यकर्ताओं ने राजमार्ग से गुजरते काफिले पर पुष्पवर्षा कर अपनी नेता को श्रद्धांजलि अर्पित की। उनकी पार्थिव देह को गीतांजली हॉस्पिटल में रखा गया है। मंगलवार सुबह ही पार्थिव देह मोक्षरथ में घर तक लाई जाएगी और अंतिम विदाई की रस्म के बाद उनकी अंतिम यात्रा शुरू हो जाएगी। वहां उपस्थित लोग दूर से ही उनके अंतिम दर्शन कर सकेंगे। 

उनकी अंतिम यात्रा मंगलवार 01 दिसम्बर सुबह 10.30 बजे उनके निवास स्थान 457 अम्बामाता स्कीम, उदयपुर से रानी रोड मोक्षधाम के लिए प्रस्थान करेगी। उठावणा बुधवार 02 दिसम्बर अपराह्न 3 से 6 बजे निवास स्थान पर ही रखा गया है जो कोरोना प्रोटोकॉल के अनुरूप होगा। राजसमन्द में 3 व 4 दिसम्बर को सुबह 11 से दोपहर 2 बजे तक गजानन वाटिका के पास राणा राजसिंह कॉलोनी 100 फीट रोड पर श्रद्धांजलि सभा रखी गई है। किरण माहेश्वरी के परिवार में उनके पति सत्यनारायण माहेश्वरी, उनके पुत्र प्रशान्त, पुत्रवधु कोमल, पौत्री निष्का, पुत्री दिप्ती, दामाद शशांक, दौहित्र दर्श हैं।

राजनीतिक जीवन मे कई जंग जीतने वाली समाज और देश में उत्कृष्ट महिला नेतृत्व के रूप में पहचान रखने वाली माहेश्वरी के निधन से माहेश्वरी समाज व भाजपा में शोक व्याप्त हो गया। पिछले दिनों समाज में उनके स्वस्थ होने की कामना से व्रत भी रखा गया था।  

लोकसभा अध्यक्ष बिड़ला शामिल होंगे अंतिम संस्कार में 
-दिवंगत विधायक किरण माहेश्वरी के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला सुबह 7.55 बजे विमान से दिल्ली से रवाना होंगे और सुबह 9.10 पर उदयपुर पहुंचेगे। बिड़ला का एयरपोर्ट से सीधे किरण माहेश्वरी के घर पहुंचने का कार्यक्रम है। वहां शोक संतप्त परिजनों से मिलकर वे 11.30 बजे कोटा के लिए रवाना होंगे। 

पीएम मोदी, सीएम गहलोत सहित कई ने दी श्रद्धांजलि 
-विधायक माहेश्वरी के असामयिक निधन पर पीएम नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट कर लिखा कि किरण माहेश्वरी के असामयिक निधन से पीड़ा हुई। राजस्थान सरकार में सांसद, विधायक या कैबिनेट मंत्री के रूप में रहीं, उन्होंने राज्य की प्रगति की दिशा में काम करने के लिए कई प्रयास किए। उनके परिवार के प्रति संवेदना। ओम शांति:। 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने लिखा कि भाजपा नेता और राजसमंद के विधायक किरण माहेश्वरी जी के असामयिक निधन से दुखी हूं। इस कठिन समय में उनके परिवार के सदस्यों और समर्थकों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना। भगवान उन्हें यह नुकसान सहने की शक्ति दे। उसकी आत्मा को शांति मिले।

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने लिखा कि पूर्व मंत्री एवं राजसमंद विधायक किरण माहेश्वरी के असामयिक निधन का समाचार सुन स्तब्ध हूं, दु:खी हूं। किरण का यूं अलविदा कह देना भाजपा परिवार के लिए ही नहीं, मेरे लिए भी व्यक्तिगत क्षति है। ईश्वर दिवंगत की आत्मा को शान्ति व परिजनों को संबल प्रदान करें। स्व. किरण से मेरा गहरा लगाव था। उन्होंने सदैव भाजपा को मजबूती प्रदान की और आजीवन भाजपा की सक्रिय कार्यकर्ता के रूप में भूमिका निभाई। उनके निधन से संगठन में हुए खालीपन को भरना आसान नहीं होगा। आज वो हमारे बीच नहीं है लेकिन हमारी स्मृतियों में वे सदैव जिंदा रहेंगी।

केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने लिखा कि पूर्व सांसद, विधायक और पूर्व मंत्री, पार्टी की वरिष्ठ व समर्पित कार्यकत्र्ता, मेरी बड़ी बहन किरण माहेश्वरी के निधन का समाचार सुनकर अत्यंत दु:खी हूं। उनका जाना ना सिर्फ संगठन की, परिवार की बल्कि मेरी भी व्यक्तिगत क्षति है। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति दे। 

लोकसभा सांसद हनुमान बेनीवाल ने लिखा राजस्थान सरकार की पूर्व मंत्री व वर्तमान राजस्थान विधानसभा सदस्य किरण माहेश्वरी के आकस्मिक निधन के दु:खद समाचार प्राप्त हुए। ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवगंत आत्मा को अपने श्री चरणों मे स्थान प्रदान करे व उनके परिजनों को दु:ख की इस घड़ी में सम्बल प्रदान करे। 

राजस्थान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष एवं भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ मार्गदर्शक गुलाबचंद कटारिया ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि एक महिला होते हुए भी जिस प्रकार से पार्टी के साथ जुड़ी और सक्रियता से मोर्चे की जिलाध्यक्ष, प्रदेश अध्यक्ष, राष्ट्रीय अध्यक्ष का दायित्व निभाया, नगर परिषद के चुनाव में सभापति बनने के बाद कार्य के बल पर खरी उतरीं। भारतीय जनता पार्टी संगठन को निश्चित रूप से उनके निधन की वजह से अपूरणीय क्षति हुई है।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि आज भारतीय जनता पार्टी का परिवार शोक से व्याकुल है, हमारी आदरणीया किरण माहेश्वरी का यूं चले जाना स्तब्ध कर गया, वो संभावनाओं वाली नेता थी, सदन में उनकी वाणी विपक्ष को निरुत्तर कर देती थी, एक सफल जनप्रतिनिधि और संगठक के रूप में उनकी भूमिका अत्यंत प्रभावी थी। 

भाजपा उदयपुर सम्भाग प्रभारी हेमराज मीणा ने भी किरण माहेश्वरी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि राजनीति में उनके अवसान से जो रिक्तता आई है, दीर्घकाल तक उसकी भरपाई सम्भव नहीं है। एक विलक्षण प्रतिभा की धनी जननेता के निधन पर अत्यंत दुख का अनुभव हो रहा है। 

भाजपा शहर जिलाध्यक्ष रवीन्द्र श्रीमाली ने कहा कि उदयपुर शहर की हमारी पूर्व सभापति, पूर्व सांसद, पूर्व मंत्री, राजसमंद की लोकप्रिय विधायक किरण माहेश्वरी के निधन से सभी स्तब्ध हैं। पार्टी में विभिन्न पदों पर रहते हुए संगठन को मजबूत करने में उनका योगदान रहा है, उनके निधन से पार्टी को अपूरणीय क्षति हुई है। 

उदयपुर नगर निगम महापौर गोविंद सिंह टाक एवं उप महापौर पारस सिंघवी ने भी किरण माहेश्वरी के निधन पर गहरी संवेदना व्यक्त की है। महापौर ने कहा कि पार्षद से सभापति एवं कैबिनेट मंत्री के पद पर आसीन हुईं किरण माहेश्वरी ने हर स्थान पर अपनी अलग पहचान बनाई। उदयपुर में सभापति के पद पर उनके कार्यकाल को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। शहर के विकास की गति को उन्होंने बहुत बेहतर ढंग से शुरू किया था, आज वह हमारे बीच नहीं रही इसका हमें बहुत खेद है। उनकी कमी को कोई भी पूरा नहीं कर सकता है। 

उपमहापौर पारस सिंघवी ने कहा कि उनका सौभाग्य है कि उनके साथ कार्य करने का मौका मिला, उन्होंने हमेशा अपने पारिवारिक सदस्य के रूप में दायित्व संभालने के लिए प्रेरित किया। उनके द्वारा सिखाई गई बातें हमेशा प्रेरित करती रहेंगी। उदयपुर शहर में किरण महेश्वरी के योगदान को कभी नहीं भुलाया जा सकता। उन्होंने उदयपुर का नाम राजस्थान में ही नहीं अपितु संपूर्ण भारत में भी रोशन किया है। नगर निगम परिवार इस दुख की घड़ी में उनके परिवार के साथ है। 

यह खबर भी पढ़े: दिल्ली कूच : किसानों का आरपार की लड़ाई का ऐलान, अब दिल्ली को सील करने की चेतावनी

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From national

Trending Now
Recommended